बृजमोहन अग्रवाल

अध्यात्म के शक्ति जागृत होए ले भारत विश्व गुरू बनही: श्री सतपाल महाराज

रायपुर, 10 फरवरी 2018। मानव उत्थान सेवा समिति के तत्वाधान म राजिम कुंभ मेला क्षेत्र म आयोजित दू दिवसीय सद्भावना सत्संग समारोह म विसाल जनसमूह ल संबोधित करत पूज्य सतपाल जी महाराज ह कहिन कि एक गरीब ले गरीब आदमी घलोक चाहथे के मोर परिवार म सद्भावना होवय, अधिकारी घलोक चाहथे कि हमार क्षेत्र के अंदर सद्भावना हो। बड़े-बड़े नेता घलोक चाहथें कि हमार देस म, हमारे प्रदेस म सद्भावना हो। सद्भावना राष्ट्रीय एकता बर जरूरी हे, फेर आध्यात्म के बिना सद्भावना अउ राष्ट्रीय एकता संभव नइ हे। उमन कहिन कि अध्यात्म के शक्ति आपार अऊ अपरिमित हे। आज हमन अध्यात्म के शक्ति ल भुला देहे हवन। हमला अध्यात्म के शक्ति ल जागृत करना होही। जब अध्यात्म के शक्ति जागृत होगी तब हमर भारत विश्व गुरू बनही।




महाराज श्री ह कहिन कि हमार ऋषि मन के मन म विश्व कल्याणकारी भावना रहे हे। ऋषि मन के विश्वात्मा प्रभु ले इही प्रार्थना रहे हे कि हे परमात्मन! संसार म सबो सुखी होही, संसार म सबका कल्याण हो। विश्व कल्याण के भावना केवल अध्यात्म म ही सन्निहित हे। जऊन मनखे अध्यात्मवादी नइ होवय ओ ह सिरिफ अपन जाति, बिरादरी के बाते करथे के केवल हमी आघू बढ़न अऊ बाकी सब पीछू रहि जाव। फेर हमार संत मन ह आत्मा के ही अवाज सुनीन अऊ केवल आत्मा के ही विकास करिन। उमन सब्बो जगत के मनखे मन के कल्याण के बात करिन। भारत देश सब्बो जगत के कल्याण के बात करे हे, जऊन सब्बो जगत के कल्याण के बात करे हे, उही विश्व गुरू बन सकत हे। ओही आध्यात्म के बात घलोक कर सकत हे। महाराज जी ह कहिन कि सनातन धर्म जऊन ल मानव धर्म घलोक कथे वो तब ले हे जब ले मानव संसार म हे, जऊन आदमी अपन आप मन ल जानना चाहथे, अपन अंदर ओ लुकाय शक्ति ल जानना चाहता हे, ओही सही म सच्चा धर्म हे। ये जाने के उदीम के मोर ले बढ़के कोनो ताकत, कोनो शक्ति घलोक नइ हे, जऊन संसार ल रच रहे हे। महाराज जी ह कहिन कि धर्म ल कइसे जानव ? आदि गुरू शंकराचार्य जी समझाथें कि दुख के कारण हे अज्ञानता, अऊ अज्ञानता के तोड़ हे ज्ञान। ज्ञान ल अगर आप मन नइ जानत हव, इही अज्ञान हे। महान पुरूष समझाते हे कि आप मन के अंदर जऊन अज्ञानता हे ओ अज्ञानता ल दूर करे बर अपन सही स्वरूप के ज्ञान प्राप्त करव। जऊन ल अध्यात्म ज्ञान कथें, जऊन ल अध्यात्म विद्या कथें जऊन सबो विद्या मन के राजा हे।




ए अवसर म धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ह कहिन कि इही सद्भावना के उद्देश्य ले राजिम कुंभ के शुभारंभ करे गए हे। सनातम धर्म के श्रेष्टता ल जाने बर अइसन आयोजन करक जात हे। प्रदेश के मनखे धर्मप्रेमी हें। इहां के मनखे धर्म के प्रति अच्छा आचरण रखथें। ए अवसर म बाल कलाकार मन ह बहुत अकन सांस्कृतिक कार्यक्रम मन के सुन्दर प्रस्तुति ले सबला आनन्दित कर दीन। भजन गायक कलाकार मन ह अपन सुमधुर भजन मन के गायन करके सबला मोहवा दीन। महात्मा हरि सन्तोषानन्द ह मंच के संचालन करिस। समारोह ले पहिली आज बिहनिया 10 ले मंझनिया 12 बजे तक राजिम कुंभ मेला क्षेत्र म परम पूज्य श्री सतपाल जी महाराज के भव्य शोभायात्रा निकाले गीस। ए यात्रा म हजारों श्रद्धालु मनखे नाचत, गात, ढोल, ढमाका बजात छत्तीसगढ़ के कई ठन झांकीं अउ नृत्य मन ल प्रस्तुत करत भारत के सबो संत-महापुरूष मन के फोटू ल हाथ म धरे चलत रहिन। ये शोभायात्रा राजिम कुंभ कल्प म सबले विशाल भव्य अउ अद्भुत यात्रा रहिस।



मुहाचाही:  रायपुर दक्षिण विधानसभा म बगरत हे विकास के नवा अंजोर