Chhattisgarhi prashasan

जैव विविधता के संरक्षण बर मिल-जुलकर प्रयास करना होही: श्री महेश गागड़ा

  • अन्तर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस म संगोष्ठी आयोजित




रायपुर, 22 मई 2017। वनमंत्री श्री महेश गागड़ा हर कहे हे कि हमर प्रदेश जैव विविधता के क्षेत्र मं धनी हे। मिल-जुल कर सबो के उदीम ले एकर संरक्षण करना होही। उमन कहिन कि जैव विविधता बचेही तभेच हम बाचबोन। श्री गागड़ा आज इहां रायपुर के नवीन विश्राम भवन के सभाकक्ष मं अन्तर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के अवसर मं जैव विविधता अउ संवहनीय पर्यटन विसय म आयोजित संगोष्ठी ल सम्बोधित करत रहिन। संगोष्ठी मं विशेषज्ञ वक्ता मन हर जैव विविधता संवहनीय अऊ इको टूरिज्म के बारे मं अपन विचार रखिन। ए अवसर म छत्तीसगढ़ राज्य जैव विविधता बोर्ड से संबंधित दिशा-निर्देश पुस्तिका के विमोचन घलोक करे गीस।
प्रधान मुख्य वन सरंक्षक (वन्य प्राणी अउ जैव विविधता संरक्षण) श्री आर.के. सिंह हर स्वागत उदबोधन दीन। भोपाल (मध्यप्रदेश) ले आए जीव विशेषज्ञ अउ सेवा निवृत्त मुख्य वन संरक्षक डॉ. सुहास कुमार ह कहिन कि नियम प्रक्रियाओं के पालन करत करत इको टूरिज्म के विकास करना होही। जैव विविधत के सदस्य सचिव श्रीमती संजिता गुप्ता हर सब्बो के आभार व्यक्त करिस। ए अवसर म संगोष्ठी मं संसदीय सचिव सुश्री चम्पादेवी पावले, राज्य औषधीय बोर्ड के उपाध्यक्ष डॉ. जे.पी.शर्मा, राज्य वन अनुसंधान अउ प्रशिक्षण संस्थान के निर्देशक डॉ. ए.ए.बोआज संग वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, वन विभाग के प्रशिक्षणार्थी अउ स्कूली छात्र-छात्रा मन उपस्थित रहिन।




मुहाचाही:  हड़ताल म रोक के सिफारिश के विरोध मं वकील मन आधा दिन के हड़ताल करहीं