Desh

राफेल डील म सरकार पहिलिच संसद म देहे हे जवाब

नई दिल्‍ली, 09 अगस्‍त 2018। राफेल डील म यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी अऊ प्रशांत भूषण के आरोप ल निराधार बतात रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण अऊ केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ह पलटवार करत कहिन के ए संबंध म सरकार पहिलिच संसद म जवाब दे डरे हे।
सरकार ह राफेल लड़ाकू विमान सौदा उपर यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी अऊ प्रशांत भूषण के आरोप ल खारिज कर दीन। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ह अपन ट्वीट म कहिन के कई ठन संवाददाता सम्मेलन मन म जऊन आरोप लगाए जात रहिस हे, वो सबो के जवाब संसद म देहे जा चुके हे। उमन कहिन कि निराधार आरोप मन के संग सरकार के छबि खराब करे के अभी के उदीम संसद म धराशायी हो गीस।
केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली ह आरोप मन ल खारिज करत कहिन कि राफेल लड़ाकू विमान मन ल हासिल करे के संबंध म गलत बात कहिना अऊ 2016 के सरकारी समझौता के बारे म तथ्य मन ल तोड़ मरोड़ के पेश करना सिरिफ सरकार के छवि ल बिगाड़े के कोसिस ये। एला निंदनीय बतात उमन कहिन के सरकार के खिलाफ लगाए गए आरोप मन म कोनो सच्चाई नइ हे, भलुक सिरिफ ए नेता मन के अपन अस्तित्व बचाए रखे के उद्देश्य ले आरोप लगए जात हे। जेमन राष्ट्रीय सुरक्षा के खतरा उपर चिंता जतात हें, ओ मन ल अपन जिम्मेदारी समझना चाही अऊ राष्ट्रीय सुरक्षा ले जुरे मामला ल अपन निजी स्वार्थ बर एकर राजनीतिकरण नइ करना चाही।
आप मन जानतेच होहू के 20 जुलाई के दिन लोकसभा म अविश्वास प्रस्ताव के बेरा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ह फ्रांस के संग होए राफेल सौदा के मामला उठाया रहिस। उमन कहे रहिन फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्यूएल मैक्रॉन ह ओ मन ल बताए हे कि ए सौदा म दुनों देश मन के बीच एक गोपनीय शर्त हे एखर बाद फ्रांसीसी सरकार ह राहुल गांधी के बयान उपर प्रतिक्रिया देवत कहिन के फ्रांस अऊ भारत ह 2008 म एक सुरक्षा समझौता करे हे, जऊन कानूनी तौर म दुनों देश मन ले एक दूसरे से दे गए विशेष सूचना ल गोपनीय रखे के बारे म हे। ये वक्तव्य ले भारत या फ्रांस म रक्षा उपकरण मन के संचालन क्षमता अऊ सुरक्षा म प्रभाव पड़ सकत हे। समझौता के ये प्रावधान 36 राफेल विमान अऊ ऊंखर हथियार प्राप्त करे के 23 सितम्‍बर, 2016 ले होए सरकारी समझौता म स्वाभिवक रूप ले लागू होथे।
प्रधानमंत्री ह 20 जुलाई ल लोकसभा म जवाब देवत कहिन के फ्रांस के संग राफेल सौदा पूरा पारदर्शी रहिस अऊ राहुल गांधी ल राष्ट्रीय सुरक्षा के मामला मन म बचकाना टिप्पणी मन ले बचना चाही। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ह ए आरोप मन के सबो बिन्दु म जवाब दीन अऊ राहुल गांधी के वक्तव्य के बाद फ्रांस के सरकार ह एक बयान जारी करके अपन प्रतिक्रिया घलव देहे हे। फ्रांस के सरकार ह अउ रक्षा मंत्री ह घलोक लोक सभा म राहुल के बयान के खंडन करे हे। राफेल सौदा म दुनों देश मन के जवाब के बाद घलोक कुछ मनखे सरलग सरकार के छबि बिगाड़े के कोसिस ले बाज़ नइ आवत हे।

मुहाचाही:  18वां एसियाई खेल के जकार्ता म रंगारंग समापन