Success Stories Success story Yojana गरियाबंद

सौर सुजला बनी किसान मन के आय बढ़ईया कारगर योजना

गरियाबंद, 20 जुलाई 2018। किसान मन के आय ल बढ़ाए म क्रेडा कोति ले संचालित सौर सुजला योजना एक सफल अऊ कारगर योजना हे। ये योजना किसान मन बर वरदान के जइसे हे। गरियाबंद जिला म सौर सुजला योजना के तहत अभी तक कुल 2456 किसान मन ल सोलर पंप बांटे गए हे अऊ सबो सोलर पंप कार्यशील अवस्था म हे। हम आप ल बता देवन के गरियाबंद जिला म सौर सुजला योजना के पहिली चरण म 700 सोलर पंप स्थापना के लक्ष्य रखे गए रहिस, ओमा ले लक्ष्य ले जादा 1019 सोलर पंप मन के स्थापना जिला म करे गए हे। ए प्रकार से सोलर पंप स्थापना के दृष्टि ले गरियाबंद जिला के नाम राज्य म ‘प्रथम‘ स्थान म हे। जिला म सौर सुजला योजना के दूसर चरण म 1437 पंप मन के स्थापना काम घलोक पूरा करे जा चुके हे।
सौर सुजला योजना के तहत विद्युतविहिन अउ दूरस्थ गांव मन के किसान मन ल किसानी के काम बर 95 प्रतिशत ले 98 प्रतिशत के अनुदान म 3.5 लाख ले 4.5 लाख रूपिया के लागत मूल्य के सोलर पंप मन ल मात्र 10000 ले 25000 रूपिया म प्रदान करे जात हे। पहिली किसान मन तीर सिंचाईं के साधन नइ होए म ओ मन पूरा फसल मन के सिंचाई बर वर्षा उपर निर्भर रहना परत रहिस। बरसा नइ होए या अल्प बरसा के स्थिति म किसान मन के फसल बर्बाद हो जात रहिस, जेखर से किसान मन ल आर्थिक नुकसान होत रहिस, फेर अभी हाले म सौर सुजला योजना ह किसान मन ल बिक्‍कट राहत देहे हे। ए योजना म स्थापित सोलर पंप के सेती अब किसान मन ल बरसा उपर अब निर्भर नइ होना परत हे अउ बहुत मात्रा म फसल के पैदावार होत हे। सौर सुजला योजना के तहत लाभान्वित किसान मन के आर्थिक स्थिति म सरलग सुधार होवत हे। अपन खेत मन म सोलर पंप स्थापित करइया सबो किसान सौर सुजला योजना के प्रसंशा करत हें।

मुहाचाही:  मुख्यमंत्री उच्‍च शिक्षा ऋण ब्याज अनुदान योजना

शेषमल अऊ तुलसीदास के आमदनी हर महिना 5 हजार ले बढ़के 20 हजार रूपिया महिना हो गए
विकासखण्ड देवभोग के ग्राम कुम्हडईकला के किसान श्री शेषमल गिरीराज अउ श्री तुलसीदास पात्रा पहिली सिंचाई साधन नइ होए के सेती कृषि जमीन होत घलोक फसल नइ ले पात रहिन, फेर अब सौर सुजला ह उंखर सिंचाई समस्या खतम कर दीस। अभी हाले म दुनों किसान मन खेत म सौर सुजला योजना के तहत सोलर पंप लगे हे अऊ अब ओ मन सोलर पंप के पानी के उपयोग करके सब्जी के उत्पादन करत हें। शेषमल गिरीराज अऊ तुलसीदास ह बताइस कि जब उंखर जमीन म सोलर पंप नइ लगे रहिस, त ओ मन सिरिफ अपन घर बर ही थोर-बहुत सब्जी-भाजी उगात रहिन। अब दूनों किसान पंप लगे के बाद करीब 3-3 एकड़ जमीन म बैंगन, भिंडी अऊ उड़द के फसल लेवत हें। शेषमल ह बताइस कि सोलर पंप ले सिंचाई के बदौलत आज उंखर हर महिना के आमदनी कई गुना बाढ़ गए हे। पहिली ओ मन हर माह सिरिफ पांच हजार रूपिया कमा पात रहिन, अब उंखर आमदनी हर महिना करीब बीस हजार रूपये होगए हे। अइसनहे तुलसीदास पात्रा ह घलोक बताइस कि सोलर पंप लगाय ले पहिली हर महिना उंखर आय पांच-छः हजार रूपिया रहिस, फेर अब बाढ़के हर महिना के आमदनी 20-21 हजार रूपिया हो गए हे।