छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंग्‍य संग्रह तुंहर जंउहर होवय के होईस विमोचन


युवा व्यंग्यकार धर्मेन्द्र निर्मल के छत्तीसगढ़ी व्यंग्य संग्रह के विमोचन 11 दिसंबर, 2016 इतवार के दिन आई एम ए भवन दुर्ग में होइस। दुर्ग जिला हिन्दी साहित्य समिति, दुर्ग अउ निराला साहित्य समिति, थान-खम्हरिया के ये संघरा आयोजन रहिस जेमा दुर्ग अउ थान-खम्हरिया के साहित्यकार सकलाये रहिन। विमोचन के पाछू रचनाकार धर्मेन्द्र निर्मल ह कहिन के ये किताब के शीर्षक छत्तीसगढ़ी के अईसे गारी आय जउन ल महिला सियान मन मया म अपन नाती-नतुरा ल देथें। ये गारी देके उमन लईका मन ल सही रद्दा रेंगे के सीख देथें। कार्यक्रम के माई पहुना व्यंग्यकार विनोद साव ह एला परखर करत कहिन के जउंहर शब्द, जौहर ले बने हे जेकर मतलब महिला मन के आगी म कूद के जान दे देना हे। ये अकेल्ला गारी म महिला अउ ओकर पति दूनो के मरे के भड़ौनी हे। छत्तीसगढ़ म ये तरा के कई ठन गारी के चलन हे जइसे तुंहर मुर्दा निकले, आगी लगय, तोला गाड़व आदि अउ ये गारी क्रोध म अउ प्रेम म घलव देहे जाथे। ये किताब के शीर्षक के सन्दर्भ म ये ह मौत के बद्दुआ नो हे भलुक सीखे के कोंचन ये। उमन विस्तार ले किताब के बारे म चर्चा करत धमेंन्‍द्र के व्यंग्य मन म प्रयोग करे गए भाषा, शिल्प अउ प्रतीक के बारे म बताइन।


कार्यक्रम के अध्यक्ष प्रसिद्द व्यंग्यकार रवि श्रीवास्तव ह छत्तीसगढ़ के जम्मो व्यंग्यकार मन के उल्लेख करत बताईन के छत्तीसगढ़ व्‍यंग्‍य के मामला मां हमेशा माई मूड़ रहे हे। उमन "तुंहर जंउहर होवय" म संघराये व्‍यंग्‍य मन उपर गोठ करत कहिन के येमा कई व्‍यंग्‍य मन म भाषा के दुहराव हे तेखर ले लेखक ल बचना चाहिए। उमन लेखक के भाषा प्रवीणता, छत्‍तीसगढ़ी हाना-भांजरा के अद्भुत प्रयोग के उदाहरण ल पढ़ के घलव बताईन। छत्तीसगढ़ के लोक भाषा मा व्‍यंग्‍य लिखे बर उमन धमेन्‍द्र ल बधाई दीन। विशेष अतिथि राजकमल राजपूत, निराला साहित्य समिति थान खम्हरिया के अध्यक्ष ह अपन उद्बोधन म किताब के संबंध म उदाहरण देवत धमेन्‍द्र ल बधाई दीन।


ये कार्यक्रम म गुरतुर गोठ के संपादक संजीव तिवारी ह व्‍यंग्‍य संग्रह के ये किताब ल छत्‍तीसगढ़ी के श्रेष्‍ठ व्‍यंग्‍य बतावत कहिन के छत्‍तीसगढ़ी के तथाकथित व्‍यंग्‍यकार मन ल हिन्‍दी के व्‍यंग्‍य मन ल पढ़ना चाहिए ओकर पाछू व्‍यंग्‍य लिखे के सोंचना चाहिए। बिना व्‍यंग्‍य के तासीर ल जाने मसखरी ल व्‍यंग्‍य नई समझना चाहिए। उमन घमेन्‍द्र निर्मल के ये संग्रह के बतरस शैली के आख्‍यानिक आलेख मन के उदाहरण तको दीन जउन ह व्‍यंग्‍य के श्रेणी म रखे नई जा सकय। दुर्ग जिला हिंदी साहित्य समिति अध्यक्ष डॉ.संजय दानी ह घलव पुस्‍तक के संबंध म बताईन के उमन स्‍वयं व्‍यंग्‍य के प्रयोग छत्‍तीसगढ़ी कविता मन म करथें अउ व्‍यंग्‍य के तार ल अच्‍छा तरीका ले जानथें। कार्यक्रम म प्रसिद्ध व्‍यंगकार विनोद शंकर शुक्‍ल अउ पं. दानेश्‍वर शर्मा के धर्मपत्‍नी श्रीमती शीला शर्मा ल ज्ञद्धांजली देहे गईस। आभार प्रदर्शन आर.सी.मुदलियार ह करिन, संचालन छंदविद अउ संस्थापक साहित्य छत्तीसगढ़ी मंच के भाई रमेश कुमार सिंह चौहान ह करिन।


कार्यक्रम म प्रसिद्द सामयिक पत्रिका 'छत्तीसगढ़ आसपास' के 106 वां अंक के विमोचन घलव होईस। ये कार्यक्रम म विदुषी शकुन्तला शर्मा, प्रदीप वर्मा, गीतकार डॉ.नरेन्‍द्र देवांगन, छंदविद अरुण निगम, सूर्यकांत गुप्ता, गिरिराज भंडारी, गिरधारी देवांगन, सुशील यादव, संदीप साहू, सुनिल शर्मा 'नील' आदि उपस्थित रहिन।

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment