कैशलेस लेन-देन म छत्तीसगढ़ बनही अगुवा राज्य

राज्य स्तरीय कार्यशाला म 200 मास्टर ट्रेनर्स मन ल देहे गीस प्रशिक्षण



मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ह आज इहां नवीन विश्राम गृह म प्रदेश म कैशलेस लेन-देन ल बढ़ावा देहे खातिर आयोजित राज्य स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला के शुभारंभ करिन। ये समय म मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ह मास्टर ट्रेनर्स मन संबोधित करत कहिन के छत्तीसगढ़ कैशलेस लेन-देन म देश के अगुवा राज्य बनही। दिसंबर महीना के आखरी तक प्रदेश के 10 लाख मनखे मन ल कैशलेस लेन-देन बर प्रशिक्षित करे जाही। ये डिजिटल आर्मी के माध्यम ले शहर ले लेके गांव तक लोगन ल कैशलेस लेन-देन खातिर प्रशिक्षित करे जाही। उमन कैशलेस लेन-देन खातिर लोगन ल प्रशिक्षित करे बर युवा मन ल जोड़े ल कहिन।
मुख्यमंत्री ह कहिस के छत्तीसगढ़ जनधन खाता चालू करे, नागरिक मन के आधार कार्ड बनवाये अउ स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत गांव ल खुला म शौचमुक्त करे म आघू रहे हे। देश म लागू विमुद्रीकरण के छत्तीसगढ़ के मनखे मन स्वागत अउ समर्थन म जइसे उत्साह अउ धैर्य के परिचय देहे हें। येकर ले ये स्पष्ट हे के अवईया समय म कैशलेस लेन-देन के अभियान छत्तीसगढ म जन आंदोलन बनही। मुख्यमंत्री ह कहिस के येकर खातिर राज्य शासन कोति ले विस्तृत कार्ययोजना बनाये गए हे। संभाग ले लेके ग्राम पंचायत स्तर तक मनखे मन ल डिजिटल भुगतान खातिर प्रशिक्षण देहे के योजना हावय। हरेक ग्राम पंचायत म पचास आदमी ल डिजिटल भुगतान बर प्रशिक्षित करे जाही। मुख्यमंत्री ह आघू कहिन के प्रदेश के क्रेडिट धारक किसान मन ल रूपे कार्ड जारी करे जाही। ग्रामीण क्षेत्र म भुगतान बर आधार इनेबल्ड भुगतान प्रणाली अउ रूपे कार्ड ल बढ़ावा देहे जाही।मुख्यमंत्री ह कहिन के देश म 1 लाख करोड़ रूपया के नगदी लेन-देन के प्रक्रिया म 2100 करोड़ रूपया हर साल खर्चा होथे। येकर अप्रत्यक्ष भार जनता उपर ही परथे। डिजिटल पेमेंट ले भुगतान के प्रक्रिया पारदर्शी अउ सरल होगी। मुख्यमंत्री ह कहिन के प्रदेश म धान खरीदी अउ मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना म भुगतान के प्रक्रिया म सूचना प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल होवत हे येकर ले लाखों आदमी लाभान्वित घलव होवत हें। ये अवसर म छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी, चिप्स कोति ले मॉस्टर ट्रेनर्स के सहयोग बर हेल्पलाईन नंबर घलव जारी करे गईस। मुख्य सचिव विवेक ढांड ह कहिन के छत्तीसगढ़ नई तकनीक मन ल अपनाये म हमेंशा आघू रहे हे। प्रधानमंत्री जनधन योजना जब खलू होईस वो समय छत्तीसगढ़ के 1 करोड़ लोगन के बैंक खाता नइ रहिस। ये योजना के क्रियान्वयन म सरकार अउ जनता ह मिलके काम करिन अउ आज 90 लाख ले जादा मनखे के जनधन खाता खुल गए हे। देश म आधार पहचान संख्या के सबले जादा कव्हरेज छत्तीसगढ़ म हे। प्रदेश म 96 प्रतिशत लोगन के आधार बन गए हे।
इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख सचिव अमन सिंह ह राष्ट्रीय अउ अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य म कैशलेस भुगतान के जानकारी देवत कहिन के भारत म 94 प्रतिशत लेन-देन नगद आधारित होथे। जबकि विकसित देश मन म 80 ले 90 प्रतिशत भुगतान कैशलेस होथे। कालाधन अउ जाली नोट ल खतम करे के संग कैशलेश लेन-देन ल बढ़ावा देना विमुद्रीकरण के उद्देश्य आए। ये अवसर म छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन अउ अधिकारी मन के द्वारा डिजिटल भुगतान के अलग-अलग तरीका मन के प्रशिक्षण देहे गईस। प्रशिक्षण म आन-आन विभाग ले आए मॉस्टर ट्रेनर्स मन डिजिटल पेमेंट के यूपीआई, एमएमआईडी, यूएसआईडी, एईपीएस, मोबाईल वॉलेट अउ बैंक कार्ड के माध्यम ले भुगतान करे के बारीकी मन ल समझिन। ये अवसर म अपर मुख्य सचिव अजय सिंह, गृह विभाग के प्रमुख सचिव बीआर सुब्रमण्यम, वित सचिव अमित अग्रवाल सहित अधिकारीमन उपस्थित रहिन।

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment