सरकारी स्कूल ले ही देश ल मिले हे कई महान विभूती : डॉ. रमन सिंह

मुख्यमत्री सामिल होइस ’लईका मड़ई’ के समापन समारोह म



रायपुर, 24 जनवरी 2017। मुख्यमत्री डॉ. रमन सिंह आज इहां साईंस कॉलेज मैदान म आयोजित तीन दिवसीय रायपुर जिला स्तरीय ‘लईका मड़ई‘ के समापन कार्यक्रम ल संबोधित करत करत कहिन के देश के अधिकांश महान विभूती मन सरकारी स्कूल म पढ़ाई करके ही देश अऊ दुनिया म अपन नाम रौशन करे हें। डॉ. सिंह हर ए सिलसिला म संविधान बनइया डॉ. भीमराव अम्बेडकर अऊ देश के प्रसिद्ध रक्षा वैज्ञानिक अउ पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के उदाहरण दीन। मुख्यमत्री हर आघू कहिन के आज घलोक बोर्ड परीक्षा के मेरिट सूची म सरकारी स्कूल के लइका मन के ही परचम लहरात नजर आथे। सरकारी स्कूल मन के लइका मन म प्रतिभा के कोनो कमी नइ हे। ओ मन ल सिरिफ प्रोत्साहित करे के जरूरत हे।


मुख्यमत्री आज संझा इहां शासकीय विज्ञान महाविद्यालय के मैदान म सरकारी स्कूल के लइका मन बर आयोजित तीन दिवसीय ’लईका मडई’ के समापन समारोह ल माई पहुना के आसन ले सम्बोधित कररत रहिन। कार्यक्रम के आयोजन राज्य सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग अऊ रायपुर जिला प्रशासन ह संघरा करे रहिन। मुख्यमत्री ह लइका मन के प्रतिभा ल निखारे खातिर आयोजित ये लईका मड़ई ल स्कूल शिक्षा विभाग के एक नवा परयोग बताइस अऊ कहिन के एखर माध्यम ले खेल अऊ कला-संस्कृति के क्षेत्र म लइका मन के प्रतिभा खुल केर सामने आए हे। ये वाले लईका मडई सही म सांस्कृतिक कार्यक्रम मन के एक अनूठा संगम हे। डॉ. सिंह हर मंच म नान्हे लइका मन के सांस्कृतिक प्रस्तुति मन ल घलोक देखिन अऊ उंखर उत्साह बढ़ाइन। उमन लईका मड़ई के सफल आयोजन बर स्कूल शिक्षा विभाग अऊ जिला प्रशासन के सब्बो अधिकारी अऊ कर्मचारी अउ आयोजन म सहभागी बने स्कूली लइका मन, शिक्षक मन अऊ अभिभाव मन ल बधाई दीन। मुख्यमत्री हर आयोजन के कई ठन प्रतियोगिता मन के पुरस्कार घलोक वितरित करिन। समारोह म लोक निर्माण मत्री श्री राजेश मूणत अउ आंरग के विधायक श्री नवीन मारकण्डेय घलोक उपस्थित रहिन।






कार्यक्रम ल संबोधित करत उमन आगू कहिन के शासकीय स्कूल से पढ़के बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर देश के संविधान बनइया बनिन तो डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम मिसाइल मेन अऊ देश के राष्ट्रपति बनिन। उमन लइका मन ल प्रोत्साहित करत करत कहिन के कहूं योग्यता, आत्मविश्वास अऊ ललक होही तो जीवन म हर मुकाम ल आसानी से पाए जा सकत हावे। उमन श्री ओ.पी.चौधरी के उदाहरण देवत कहिन के वो ह एक छोटे से गांव के सरकारी स्कूल म पढ़के आज रायपुर जिला के कलेक्टर के हवय। मुख्यमत्री हर कहिन के परंपरागत पढ़ाई तो स्कूलों के कक्षा मन म ही होथे फेर वोमा बदलाव अउ नवाचार करत-करत अपन स्कूल अऊ कक्षा ल मॉडल के रूप म स्थापित करना महत्वपूर्ण होथे। लईका मड़ई म शिक्षक मन ‘‘कबाड़ से जुगाड़‘‘ ले जऊन नवाचार ल प्रस्तुत करे हे वो सराहनीय पहल हे। लोक निर्माण मत्री श्री राजेश मूणत हर कार्यक्रम ल संबोधित करत कहिन के पहली पइत राजधानी म अइसन अनूठा आयोजन होय हावे। संसाधन मन के अभाव के बावजूद ग्रामीण क्षेत्र के छात्र-छात्रा मन हर बेहतर खेल प्रतिभा अउ सांस्कृतिक कार्यक्रमों के प्रस्तुति ए आयोजन म देहे हें। कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी हर बताइस कि तीन दिन तक चलइया ए लईका मड़ई म स्कूली छात्र-छात्रा मन के संग शिक्षक मन घलोक खेल अउ सांस्कृतिक कार्यक्रम मन म अपन प्रतिभा के प्रदर्शन करत हें। उउमन बताइन के 200 शिक्षक मन अभिनव प्रयोग उपर आधारित प्रदर्शनी ये मडई म लगाए गए हे जेमां 150 शिक्षक मन ल पुरस्कृत घलोक करे जात हे। ए अवसर म पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कुलपति श्री एस.के.पाण्डेय संग स्कूल शिक्षा विभाग, जिला पंचायत अऊ जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहिन।









Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment