गृह, जेल अऊ लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ले संबंधित 4532 करोड़ 03 लाख के अनुदान मांग के बजट विधानसभा ले पारित





रायपुर, 24 मार्च 2017। छत्तीसगढ़ विधानसभा ले आज गृह (पुलिस) जेल अऊ लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के 4532 करोड़ 03 लाख के अनुदान मांग के बजट पारित करे गीस। ये मां पुलिस (गृह) विभाग बर 3738 करोड़ 95 लाख 25 हजार, जेल विभाग बर 161 करोड़ 12 लाख 70 हजार अऊ लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग बर 631 करोड़ 95 लाख 16 हजार सम्मिलित हावे।
अनुदान मांगों म चर्चा के उत्तर देवत हुए गृह, जेल अऊ लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा हर कहिन कि सरकार बेहतर कानून व्यवस्था बनाए रखे बर दृढ़ संकल्पित हावे। प्रदेश के विकास मं बेहतर कानून व्यवस्था के महत्वपूर्ण योगदान हावे। प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्र मनन मं विकास कार्य मन के सुरक्षा बर साल 2017-18 मं 3 हजार 525 करोड़ के बजट बजट प्रावधान करे गीस हावे, जऊन साल 2016-17 के तुलना मं 10.28 प्रतिशत अधिक हावे। गृह मंत्री हर कहिन कि राज्य सरकार नक्सलवाद ल पूरा खतम करे बर घलोक दृढ़ संकल्पित हावे अऊ ए चुनौती ले निपटे खातिर पुलिस विभाग हर मजबूत आधारशिला तैयार कर लेहे हावे। छत्तीसगढ़ पुलिस के जवान नक्सल प्रभावित क्षेत्र मन मं भीतरी हिस्सा मं घलोक साहस के साथ लड़त हें अऊ पुलिस ल नक्सल मोरचा म भारी सफलता मिलत हावे। राज्य के बहुत से हिस्सा मं छत्तीसगढ़ पुलिस ल नक्सलवाद फैले ले रोक लगाए हावे। पुलिस ल अनुसंधान करे कानून व्यवस्था बनाए रखे, विशिष्ट मनखे के सुरक्षा, पेट्रोलिंग, माओवाद आदि ले लड़े बर बल के जरूरत हे। राज्य गठन के समय नवम्बर 2000 के स्थिति मं पुलिस विभाग मं कुल 22 हजार 520 पद स्वीकृत रहिस। साल 2002-03 तक पुलिस विभाग मं मात्र तीन हजार 758 नवा पद स्वीकृत करे गीस। अभी हाल म सरकार हर पाछू तेरह बछर मं कुल 47 हजार 831 नवा पद सृजत करे हावे। अभी हाल मं पुलिस विभाग के कुल स्वीकृत बल 74 हजार 109 हावे। साल 2017-18 मं अभी हाल सरकार हर 1142 पद के सृजन के प्रावधान करे हावे।
गृह मंत्री हर कहिन कि सरकार हर गृह विभाग के बजट मं लगातार वृद्धि करे हावे। उमन उम्मीद जताइन कि बजट मं प्रावधानित एक-एक पइसा के समुचित उपयोग करके प्रदेश मं शांति कायम करे अऊ नक्सलवाद ल खतम करे मं सरकार कोनो कसर नइ छोड़य।







loading...


Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment