चश्मा अपनी नाक पे रखो तुम, मेरी तो ऊँगलियाँ लिखती पढ़ती हैं : सक्षम के ब्रेल लाइब्रेरी मं धारा प्रवाह पाठ पढ़थे माहेश्वरी





दंतेवाड़ा, 3 मार्च, 2017। सक्षम-२ के ब्रेल लाइब्रेरी मं गुलजार के लिखे एक लकीर लिखे गए हे। चश्मा अपनी नाक पे रखो तुम, मेरी तो ऊँगलियाँ लिखती पढ़ती हैं। ए पंक्ति के मरम तब समझ म आथे जब आप मन दृष्टिबाधित बालिका माहेश्वरी ल ब्रेल मं धारा प्रवाह पढ़ाई करत सुनहू। सामान्य लइका मन ल हम अक्षर के समझ बनाए बर उनला वर्णमाला दिखाथन। जेमा अ से अनार अऊ आ से आम वो लइका चिन्‍हथे फेर धीरे से ओखर पाठ पढ़त जाथे। जन्म ले दृष्टिबाधित लइका जेकर समझ अनार अऊ आम ल लेके केवल स्वाद के हे वो ए ककहरा ल कइसे समझही। एकर बिना जउन ह स्वाभाविक रूप ले बचपन ले ही धाराप्रवाह पढ़े के क्षमता पा लय वो बच्ची सित्‍तो म मेधावी ही कहे जाही।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">




Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment