लइका मन के रक्षा करना हमर दायित्व हे : शताब्दी पाण्डेय

राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के कार्यशाला संपन्न
प्रतिभागी मन ल देवइस बाल अधिकार रक्षा के शपथ




रायपुर, 03 मार्च 2017। छत्तीसगढ़ बाल संरक्षण आयोग कोति ले आज इहां नवीन थिरावन गृह मं बाल अधिकार अउ संरक्षण विसय म कार्यशाला के आयोजन करे गीस। कार्यशाला मं एन.सी.सी., एन.एस.एस., नेहरू युवा केन्द्र अउ जिला पुलिस अधीक्षक कोति ले आयोग के पहल म गठित बाल मित्र दल के प्रतिनिधि मन उपस्थित रहिन। आयोग के अध्यक्ष श्रीमती शताब्दी पाण्डेय ह कार्यशाला के अध्यक्षता करत-करत कहिन कि लइका खुद अपन रक्षा नइ कर सके, ए खातिर हमर दायित्व बनथे हावे कि हम ओ मन ल सुरक्षा प्रदान करन। लइका मन के प्रति होवइया अपराध मन ल कइसन कम करे जाए, एमा हम सबला संवेदनशील होके काम करना हे। जब लइका मन ल कोनो भी प्रकार के जरूरत होवय हमला तुरते उंखर सहायता करना चाही। बाल मजदूरी, बंधुआ मजदूरी, बाल विवाह, लैंगिक शोषण के विरूद्ध हम सब्बो ल मिलकर काम कर सकत हन। लइका मन ल जम्‍मो प्रकार के शोषण ले बचाय बर आयोग के हेल्पलाइन टोल फ्री नं. 1800-233-0055 म संपर्क करे के अपील श्रीमती पांडेय हर करिन। कार्यशाला मं आयोग ले तैयार लैंगिक शोषण उपर आधारित फिल्म गुणेश्वरी अउ खुशी के प्रदर्शन घलोक करे गीस। कार्यशाला मं आयोग के सचिव श्री नंदलाल चौधरी हर बताइस कि लइका मन के हित सबले बड़े हे। जब लइका के शोषण होथे तो वो शारीरिक अउ मानसिक दूनों रूप ले टूट जाथे। अइसन मं ओ मन ल संबल देना हम सबके दायित्व हे।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">




Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment