मुख्यमंत्री ले असम निवासी छत्तीसगढ़िया मन के प्रतिनिधि मंडल करिस सौजन्य मुलाकात

डॉ. रमन सिंह ल दीन असम आए के नेवता
छत्तीसगढ़ी भाखा अऊ संस्कृति के पहिचान बनाए राखे बर मुख्यमंत्री हर करिस सराहना




रायपुर 28 मार्च 2017। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ले काली विधानसभा म ऊंखर कार्यालय कक्ष मं असम ले आए छत्तीसगढ़ निवासी मन के 28 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल हर सौजन्य मुलाकात करिन। ए प्रतिनिधि मन मुख्यमंत्री ल बताइन कि छत्तीसगढ़ के मनखे अंदाजन 150 साल पहिली चाय बागान मन मं मजदूरी करे बर असम गए रहिन अऊ उन्‍हें निवास करे लगिन। अतेक दिन बाद घलव उमन छत्तीसगढ़ के सामाजिक-सांस्कृतिक परम्परा मन ल आज ले कायम रखे हावें।
डॉ. सिंह हर ए खातिर उंखर प्रशंसा करिन। डॉ. सिंह हर कहिन कि छत्तीसगढ़ के मनखे ह पाछू कई पीढ़ी ले असम मं निवास करत अपन मेहनत ले उहां के स्थानीय असमिया समाज मं अपन एक खास पहिचान बनाय हावे। मुख्यमंत्री ह उमन ले छत्तीसगढ़ी भाखा मं बातचीत करत कहिन कि असम मं रहइया छत्तीसगढ़ के निवासी मन के अभी हाल सामाजिक-आर्थिक स्थिति के जानकारी लेहे बर एक अध्ययन दल उहां भेजे जाही। अध्ययन दल मं छत्तीसगढ़ के लोक कलाकार घलोक रहिहीं। प्रतिनिधि मंडल हर मुख्यमंत्री ल असमिया गमछा भेंट करके उंखर सम्‍मान करिन। ए अवसर म छत्तीसगढ़ी फिल्म के कलाकार, पद्मश्री अनुज शर्मा घलोक उपस्थित रहिन।
प्रतिनिधि मंडल मं सामिल श्री त्रिलोक कपूर सिंह हर मुख्यमंत्री ल बताइस कि ओ मन छत्तीसगढ़ी गाना गाथें। आल इंडिया रेडियो डिब्रूगढ़ म प्रसारित होवइया क्षेत्रीय भाषा मन के कार्यक्रम ’च बानुआ असोर’ मं घलोक ओ मन छत्तीसगढ़ी गाना गाथें। उंखर ’असम-छत्तीसगढ़ी कला सृष्टि परिषद’ नाम के एक सांस्कृतिक दल घलोक हावे, जऊन कर्मा अऊ शैला नृत्य के कार्यक्रम समय-समय म प्रस्तुति घलोक देथे। श्री जुनमनी साहू, गणपत नेले, तुलाराम तेली हर मुख्यमंत्री ल बताइस कि छत्तीसगढ़ी भाखा मं उनम ददरिया के संकलन ’रिझ रंग’ सीरसक ले प्रकाशित करे हावें, जेकर लिपि असमिया हावे। प्रतिनिधि मंडल हर मुख्यमंत्री ल असम आए के नेवता घलोक दीन। प्रतिनिधि मंडल मं 85 वर्षीय श्री चिन्ताराम साहू घलोक सामिल हवंय। उमन बताइन कि ओ मन आठ साल के उम्‍मर मं असम गए रहिन। ओ मन मूल रूप ले दुर्ग जिला के धमधा विकासखण्ड के जंवरतला गांव के रहइया आंए। प्रतिनिधि मंडल ह पहली पइत छत्तीसगढ़ आए हावें। श्री दुर्गा साहू डिबू्रगढ़ जिला के बावनबाड़ी गांव के स्कूल मं शिक्षक हावें। ये प्रतिनिधि मंडल राज्य शासन के संस्कृति अउ पुरातत्व विभाग कोति ले राजधानी रायपुर मं आयोजित ’पहुना संवाद’ मं सामिल होए आए रहिन। ए प्रतिनिधि मंडल हर राजिम, चम्पारण, दामाखेड़ा, सिरपुर अऊ गिरौदपुरी तीर्थ के घलोक दौरा कर दर्शन करिन।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">


loading...


Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment