राष्‍ट्रीय पुस्‍तक न्‍यास के राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी जांजगीर-चांपा म





जांजगीर-चांपा, 20 मार्च 2017। राष्‍ट्रीय पुस्‍तक न्‍यास भारत कोति ले छत्‍तीसगढ़ म दू दिन के राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी के आयोजन करे गए हे। ये कार्यक्रम 23 अउ 24 मार्च 2017 को जांजगीर म शील साहित्‍य परिषद के सहयोग ले आयोजित हे।
पहिली दिन 23 मार्च को मंझनिया 2 बजे उद्घाटन सत्र के विषय हे 'शब्‍द के साथ इंटरनेट की चुनौतियॉं' ये विषय के मुख्‍य वक्‍ता हें डॉ.सुधीर शर्मा रायपुर, संजीव तिवारी दुर्ग, श्री किशोर दिवसे बिलासपुर, श्रीमती संज्ञा टण्‍डन बिलासपुर।
दूसर सत्र लेखक से मिलिए म आमंत्रित लेखक हें डा.जय प्रकाश दुर्ग अउ डॉ.श्रीमती अनुसूया अग्रवाल महासमुंद। कार्यक्रम म दिल्‍ली के वरिष्‍ठ साहित्‍यकार डॉ. दिविक रमेश अध्‍यक्षता करहीं अउ लखनउ के वरिष्‍ठ पत्रकार श्री अनूप श्रीवास्‍तव मुख्‍य अतिथि रहिहीं।
दूसर दिन 24 मार्च को बिहनिया 10 बजे ले कहानी पाठ होही जेमा कथाकार श्रीमती श्रद्धा थवाईत रायपुर, श्री लोक बाबू भिलाई, श्री खुर्शीद हयात बिलासपुर, श्री सतीश जायसवाल बिलासपुर मन कहानी पाठ करहीं।
व्‍यंग्‍य पाठ म व्‍यंग्‍यकार श्री बरूण श्रीवास्‍तव सखाजी बिलासपुर, श्री संतोष खरे सतना, श्री रवि श्रीवास्‍तव भिलाई, श्री विनोद साव दुर्ग व्‍यंग्‍य पाठ करहीं।
कविता पाठ के कार्यक्रम म श्री तनवीर हसन बिलासपुर, श्री नीरज मंजीत कर्वधा, श्री दिनेश गौतम बेमेतरा, श्री माझी अनंत धमतरी, श्री घनश्‍याम त्रिपाठी भिलाई, श्रीमती विद्या गुप्‍ता दुर्ग, सुज्ञी सरिता दोषी धमतरी, श्री नरेन्‍द्र श्रीवास्‍तव जांजगीर, श्री विजय राठौर जांजगीर, श्री सतीष कुमार सिंह जांजगीर अपन कविता के पाठ करहीं।
ये जानकारी राष्‍ट्रीय पुस्‍तक न्‍यास के संपादक अउ छत्‍तीसगढ़ के प ्रभारी डॉ.ललित किशोर मंडोरा अउ शील साहित्‍य प रिषद के अध्‍यक्ष श्री विजय कुमार दुबे ह संघरा दीन।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment