रमन के गोठ - 20वीं कड़ी : अंजाम तक पहुंचाबो लोक सुराज मं मिले आवेदन


रैपुर, 09 अपरेल 2017। आज बिहनिया आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र ले प्रसारित अपन मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ मं मुख्‍यमंत्री ह प्रदेश वासी मन ल भरोसा देवाइस कि लोक सुराज अभियान मं आए 28 लाख आवेदन पत्र ल शिविर के बाद कचरा टुकना मं नइ फेंके जाए। ओखर शत-प्रतिशत कम्प्यूटीकरण करे जात हे अऊ ऊंखर निराकरण बर साल भर काम करे जाही, मुख्य सचिव खुदे एखर निगरानी करहीं, ताकि हम जनता के समस्या के जर तक पहुंचन अऊ पात्रता रखइया हर एक मनखे ल विकास योजना मन के लाभ मिल सके। एक-एक विसय अऊ एक-एक समस्या के निराकरण करे जाही। डॉ. रमन सिंह हर कहिन कि लोक सुराज अभियान ल प्रदेशवासी मन के जर्बदस्त मया मिलत हावे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह हर कहिन कि लोक सुराज अभियान समाज मं बदलाव लाए के अभियान आए।
डॉ. सिंह हर कहिन कि सन् 2003 के आखिरी महिना मं हमर सरकार बनिस अऊ हमन 2005 ले ही ग्राम सुराज अभियान शुरू कर दे रहेन, ताकि हम जनता के दुख-दरद अऊ जरूरत ल प्रत्यक्ष अऊ समक्ष समझ सकन अऊ ऊंखर निदान बर कारगर उदीम कर सकन। जब ग्राम सुराज अभियान के लाभ जनता ल मिले लगिस त शहरी क्षेत्र ल घलोक ये अभियान ले जोड़ेन। हमन नगर सुराज अभियान संचालित करेन। फेर एक साल मं दू अलग-अलग समय म दू अभियान चलाय ले पूरा प्रशासन ल एक संग लेके चले अऊ नियमित काम-काज के समन्वय मं दिक्कत होत रहिस, तब हमन निर्णय लेहेन कि दुनों अभियानों ल मिलाके एक व्यापक अभियान लोक सुराज के नाम ले चलाए जाय।
डॉ रमन सिंह हर कहिन कि ए साल अभियान के शुरूआत नवा तरीके ले करे गए हे। पहिली चरण मं 26 फरवरी ले 28 फरवरी तक जनता से आवेदन लिए गए हे। एखर खातिर पूरा प्रदेश मं शिविर लगाए गीस अऊ समाधान पेटी के घलोक व्यवस्था करे गीस। ऑन लाइन आवेदन करे के घलोक सुविधा देहे गीस। एखर बर सरकार हर खुद लोगन के गांव, घर तक पहुंच के आवेदन लीस। ए प्रकार जनता लोक सुराज अभियान के केन्द्र मं आ गे। अभियान के स्वरूप ’ऊपर ले नीचे’ के बददा ’नीचे ले ऊपर’ हो गीस। हमार अधिकारी-कर्मचारी, विधायक, सांसद अऊ मंत्रीगण ब्लाक अऊ जिला स्तर म जनता के बीच जाके लोगन ल राज्य अऊ केन्द्र के प्रमुख योजना मन के जानकारी देवत हावे। हर एक 10 ग्राम पंचायत मन के बीच एक समाधान शिविर होवत हावे। मैं खुद 20 मई तक यात्रा मं रहिहूं। जिला मन के समाधान शिविरों मं जावत हंव, औचक निरीक्षण घलोक करत हंव। संझा 6 बजे ले 8 बजे तक समीक्षा बैठक करत हंव, ओखर बाद रतिहा 8 बजे ले 10 बजे तक ओ जिला के प्रतिनिधि मंडल ले मिलत हंव। ए प्रकार ओ पूरा जिला के अंदर के जानकारी, विकास कार्य के जरूरत अऊ मिसिंग लीड का हावे, ओखर जानकारी मिलत हे।

ए अभियान मन ले मिलत हे फीडबैक
उमन कहिन कि ये अभियान मन ले सरकार ल अपन योजना मन के बारे मं फीड बैक मिलथे कि छत्तीसगढ़ के सबसे ज्वलंत समस्या का हे? विगत तेरा साल मं ग्राम सुराज अऊ लोक सुराज अभियान ले जितका कल्याणकारी योजना मन चालू गरे गीस, ओखर व्यापकता अतका हावे कि आज बिहार अऊ उत्तर प्रदेश के मनखे, उहां के मुख्यमंत्री अऊ मंत्रीगण अऊ अधिकारी छत्तीसगढ़ आके ओखर अध्ययन करत हें। ये एक बड़का सफलता आए अऊ ये छत्तीसगढ़ के जनता के सफलता हे, जऊन हर ए अभियान मन के माध्यम ले मोला बहुत कुछ सिखाए हे। जनता ले सीखकर मैं अभियान ल आगू बढ़ाउ मं लगे हंव। उमन उम्मीद जताइन कि जनता के सोच ल योजना मन के रूप मं ढाल के धरातल म लाए म हमला सफलता मिलही।

रेडियो श्रोता मन ले मुख्यमंत्री करिन अपील : प्रेरक बनके जनता ल योजना मन के लाभ देवाव
डॉ. रमन सिंह हर अपन रेडियो प्रसारण मं चार प्रमुख योजना प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, सौर सुजला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना अऊ मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के गोठ करत-करत रेडियो श्रोता मन से ए योजना मन ल गांव तक पहुंचाए मं सहयोग करे के आव्हान तको करिन। उमन कहिन श्रोतागण जनता के बीच सिरिफ श्रोता के हैसियत ले नहीं भलुक एक प्रेरक के भूमिका मं जावव अऊ लोगन ल योजना मन के लाभ लेहे बर प्रेरित करव।

गरीब मन ल सिरिफ 40 रूपए मं चार हजार के रसोई गैस कनेक्शन
मुख्यमंत्री हर उज्ज्वला योजना ल प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के संवेदनशील सोच के परिचायक बताइन अऊ कहिन कि छत्तीसगढ़ मं ए योजना के तहत 35 लाख गरीब परिवार ल रसोई गैस कनेक्शन देहे के लक्ष्य हावे, अब तक 10 लाख परिवार ल देहे जा चुके हे अऊ अवइया डेढ साल मं 25 लाख परिवार तक जाना हावे। ए योजना मं हमन गरीब परिवार ल सिरिफ 200 रूपए कीमत मं गैस कनेक्शन, डबल बर्नर चूल्हा अऊ पहिली भरे सिलेण्डर मुफ्त देवत हन। ए 200 रूपए मं से 160 रूपया हितग्राही ल वापस मिल जाही। ए प्रकार ओला सिरिफ 40 रूपए मं 4000 हजार रूपए के रसोई गैस कनेक्शन अऊ डबल बर्नर चूल्हा मिलही। छत्तीसगढ़ मं दू करोड़ ले जादा पेड़ कटे ले बचही अऊ पर्यावरण बेहतर होही, महिला मन ल रसोई घर के धुंगिया ले खांसत-खांसत जऊन बीमारि हो जात रहिस, ओखर से ओ मन ल राहत मिलही। डॉ. रमन सिंह हर प्रधानमंत्री आवास योजना के उल्लेख करत-करत बताइन कि ए योजना मं डेढ़ लाख रूपया ले जादा फायदा हम सीधा गांव वाले मन ल देवत हन। ये ह अतका अच्छा योजना हावे, जेमां हितग्राही ल मकान बनाए बर एक लाख 20 हजार रूपया अऊ शौचालय निर्माण बर 1200 रूपया के सहायता मिलत हावे। खुद के मकान बनाए बर मनरेगा के तहत काम करे म ओ मन ल ओखर मजदूरी घलोक मिलही। डॉ. सिंह हर कहिन कि गांव मं मनखे ए योजना के तहत अपन हाथ ले अपन मकान के ईंटा जोड़त हावें। हालेच मं मैं घलोक एक गांव मं एक हितग्राही के मकान के ईंट रखे म सहजोग करेंव। ये समाज ल जोड़े के योजना हावे। हमन ए योजना मं दू लाख हितग्राहि मन के लक्ष्य ल बढ़ाके छह लाख कर दे गए हावे।

सौर सुजला योजना: किसान मन ल जीवन भर बिजली बिल पटाए के जरूरत नइ हे
डॉ. सिंह सौर सुजला योजना म प्रकाश डालत कहिन कि ये वाले योजना अइसन अविद्युतीकृत इलाका मन मं, जहां सिंचाई के साधन नइ हे, उहां के किसान मन बर काफी उपयोगी हावे। बलरामपुर, बीजापुर, सुकमा या दूरिहा के कोनो इलाका, उहां बीपीएल श्रेणी छोटे अऊ मध्यम किसान सब्बो एकर लाभ ले सकत हें। ए योजना मं चार-साढ़े चार लाख रूपया के सोलर सिंचाई पम्प मात्र दस हजार, 15 हजार अऊ 18 हजार रूपया मं देहे जात हे। येमां किसान ल जीवन भर बिजली के बिल पटाए के जरूरत नइ होही। ओला अपन एक एकड़ या दू एकड़ मं सिंचाई के बहुत सुविधा मिलही। मुख्यमंत्री हर ये घलोक बताइन कि सरकार मार्च 2018 तक छत्तीसगढ़ के 66 हजार पारा, मजरा-टोला मन के शत-प्रतिशत विद्युतीकरण करे जाही। डॉ. सिंह हर कहिन कि मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना मं हमन स्मार्ट कार्ड के राशि ए साल 30 हजार ले बढ़ाके 50 हजार कर दे हवन। एक गरीब कुटुंब तीर अगर स्मार्ट कार्ड होही त ओखर से ओमन म आत्म विश्वास आही। ये वाले एक यूनिवर्सल स्वास्थ्य योजना हावे।

सुकमा-बीजापुर मं रात बितइ अउ उहां के मनखे ले सीधा जुरे के अवसर
डॉ. रमन सिंह हर अपन रेडियो वार्ता मं ए बार के लोक सुराज अभियान के अपन अब तक के अपन अनुभव ल श्रोता मन के संग साझा करिन। उमन नक्सल प्रभावित सघन वन क्षेत्र वाले सुकमा अऊ बीजापुर जिला मं रात बिताए के बारे मं कहिन कि एखर ले उहां के लोगन के संग सीधा जुरे के अवसर मिलिस। डॉ. सिंह हर सुकमा जिला के दोरनापाल तीर शबरी नदी म बने 500 मीटर लंबा पुल के लोकार्पण के समय जनता के उत्साह ल घलोक ‘रमन के गोठ’ मं विशेष रूप ले सुरता करिन। आप मन जानत होहू कि छत्तीसगढ़ अऊ ओड़िशा ल जोरइया ए पुल के लोकार्पण मं अड़बड़ अकन दुनों राज्य के मनखे आए रहिन। मुख्यमंत्री हर कहिन कि ओड़िशा के चार-पांच हजार मनखे घलोक उहां आए रहिन। दुनों राज्य के मनखे नाचत रहिन, खुशी मनावत रहिन। कोनो सड़क या पुल के उद्घाटन मं जश्न के अइसन माहौल मैं पाछू तेरा-चउदा बछर के अपन ए राजनीतिक यात्रा मं पहिली कभू नइ देखे रहेंव। ये विकास के पुल हे, जऊन ओ क्षेत्र के अर्थव्यवस्था ल बदल देही। मैं 11 करोड़ के लागत ले एखर पुल के निर्माण पूर्ण होए म उहां के अधिकारी-कर्मचारी मन अउ सुरक्षा बल अऊ पुलिस के जवान मन ल बुलाके धन्यवाद देहे हंव। शांति तभे आही, जब विकास होही। ओ दिशा मं ए पुल ह कमाल करे हे। अइसन निर्माण काम एक संदेश देके जनता के मन मं विश्वास पैदा करथे।

दुनिया के इतिहास मं शहादत के अइसन सड़क, जेकर कहूं कोनो विवरन आज तक नइ होय होही
डॉ. रमन सिंह हर कहिन कि आप मन कल्पना कर सकत हावव कि बीजापुर, सुकमा, दंतेवाड़ा अऊ नारायणपुर जिला मं जऊन सड़क बनथे वो सामान्य दिशा मं बनइया सड़क नइ रहय। उहां कई अइसन सड़क हे, जेकर निर्माण मं हमार बारह-बारह जवान मन अपन शहादत दे हावे। वो सड़क मन के महत्व हिन्दुस्तान के आन सड़क मन ले अलग हावे, वो दुनिया के इतिहास के अइसन सड़क हे जेकर वर्णन कहूं आज तक नइ करे गए होही। डॉ. सिंह हर ए बार के लोक सुराज अभियान मं सुकमा मं रात रूके के पाछू सड़क मार्ग ले केरलापाल मं आयोजित समाधान शिविर के अपन यात्रा ल घलोक याद करिन अऊ कहिन कि केरलापाल वो जगह हवे, जिहां अलेक्स पॉल मेनन के अपहरण होय रहिस। ओ सड़क म कार ले मोर यात्रा ल लेके अधिकारी घलोक चिंतित रहिन, फेर मैं कहेंव कि मैं उहां जरूर जाहूं। केरलापाल के समाधान शिविर मं हजारों लोगन के उपस्थिति मं विकास बर उंखर ललक देखके मोला लगिस कि बस्तर बदलत हे, सुकमा अऊ बीजापुर बदलत हे। अब उहां के एक-एक मनखे विकास ले जुड़त हें, योजना मन ले जुड़त हें अऊ सरकार ले जुड़त हें।
Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment