गृहमंत्री ल झटका? लोकआयोग करही संपत्ति के जांच : हाई कोर्ट ह लोक आयोग ल कर दिस रेस





बिलासपुर 12 अप्रैल 2017। कमई ले जादा माल के मामला मं प्रदेश के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के मुसीबत बाढ़ गए हावे। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट हर गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ऊपर स्वेच्छानुदान के गलत उपयोग अऊ आय ले जादा संपत्ति मामला के याचिका म सुनवाई करिस। हाईकोर्ट हर लोकायोग मं शिकायत दर्ज करे के निर्देश दे हावे।
बताथें कि कुछ महीना पहिली आरटीआई कार्यकर्ता दिनेश सोनी हर कुछ कागद निकाले रहिस हे। ओखर अनुसार व्यापक स्तर म स्वेच्छानुदान राशि आवंटन म गड़बड़ी के खुलासा करे गय रहिस। कागद के अनुसार गृहमंत्री के करीबी अऊ शुभचिंतक मन ल स्वेच्छा अनुदान राशि बांटे के घलोक बात सामने आये हे। हाईकोर्ट मं दर्ज याचिका मं गृहमंत्री पैकरा ऊपर आय ले जादा संपत्ति अर्जित करे के आरोप घलोक लगाए गये रहिस।
ये खुलासा करे के बाद पुलिस हर दिनेश सोनी ल एक आरोप मं मामला दर्ज कर जेल भेज दे रहिस। मामला मं काली सीजे के डबल बेंच मं याचिका के सुनवाई होइस। अधिवक्ता पीके दुबे हर पुलिस कार्रवाई अऊ आरटीआई जानकारी ऊपर सुप्रीम कोर्ट मं याचिका लगायी रहिस। सर्वोच्च न्यायालय हर मामला के सुनवाई करके छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ल मामला सुने के निर्देस के संग भेजे रहिस। तेखर पाछू हाईकोर्ट ले दिनेश सोनी ल जमानत मिल गीस।
एखर बाद हाईकोर्ट मं गृहमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार मामला ऊपर सुनवाई शुरु होइस। अब ये मामला ल कोर्ट हर लोकायोग तीर भेज दीस।
खबर हैवे के अंबिकापुर के वकील दिनेश सोनी हर रामसेवक पैकरा के खिलाफ आय ले जादा संपत्ति अऊ स्वेच्छानुदान ल लेके हाई हाईकोर्ट मं याचिका लगाये रहिस। वो याचिका खारिज होए के बाद सोनी हर सुप्रीम कोर्ट के दरवाजा खटखटाइस। सुप्रीम कोर्ट हर हाईकोर्ट ल मामला लहुटावत सुने के निर्देश दिस, अब हाई कोर्ट ह लोक आयोग ल रेस कर दिस।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment