विकास के अंजोर ले डेराथें नक्सली : डॉ. रमन सिंह

मुख्यमंत्री हर कहिस-शांति अऊ विकास होए तक चैन से नइ बइठन हम







रायपुर, 28 अप्रैल 2017। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह हर कहिस हे कि देश मं नक्सलवाद के खिलाफ आखरी लड़ाई छत्तीसगढ़ मं होही। बस्तर अंचल मं नक्सल विरोधी अभियान जारी रहिही। उहां जनता के बेहतरी बर शांतिपूर्ण विकास होए तक हम चैन से नइ बइठन। उमन कहिन नक्सली मन ल सबसे जादा डर विकास के अंजोर से लगथे। ओ मन अंधियार के पुजारी यें। ओ मन ल विकास के अंजोर पसंद नइ हे। ओ मन ल सड़क, पुल-पुलिया अऊ शिक्षा जइसे सुविधा मन के विकास पसंद नइ हे, तभो ले सरकार बस्तर जइसे इलाका मं जनता के बेहतरी बर हर प्रकार के विकास के काम करत हे।
मुख्यमंत्री हर आज संझा इहां विधानसभा मं सुकमा जिला के बुरकापाल के नक्सल घटना उपर विपक्ष के लाए स्थगन प्रस्ताव म सदन मं होए चर्चा के जवाब देवत ए आशय के विचार व्यक्त करिन। उमन नक्सली मन के लोकतंत्र विरोधी मानसिकता उपर प्रहार करत कहिन- हमार लोकतंत्र अतका कमजोर नइ हे कि ओला कोनो बंधक बना सके। डॉ. सिंह हर सवाल उठाइस कि जउन माओवाद के बात वो मन करत हें, आज कहां हे, चीन मं कहां हे वो माओवाद? हिन्दुस्तान के मनखे अऊ छत्तीसगढ़ के मनखे हिंसा मं कभू भरोसा नइ करय। मुख्यमंत्री हर बस्तर इलाका मं होवत विकास कार्य मन के उल्लेख करत कहिन कि सार्वजनिक क्षेत्र मं नगरनार के इस्पात संयंत्र उहां अवइया छै महिना मं शुरू हो जाही। राज्य सरकार हर दंतेवाड़ा अऊ सुकमा मं एजुकेशन हब के निर्माण करे हे, जिहां हजारों लइका पढ़ाई करत हे। उहां के एजुकेशन हब ल देखहू त आप मन सम्मोहित हो जाहू। बीजापुर के अस्पताल मं आधुनिक चिकित्सा सुविधा मन के संग हमन 26 डॉक्टर अऊ अंदाजन 100 पैरामेडिकल स्टाफ के पोस्टिंग करे हन। स्वास्थ्य, सड़क, बिजली, पानी अऊ शिक्षा के सुविधा देना ये हमर नीति हे। अंदाजन 14 साल ले हमर सरकार हे। जब तक हम सरकार म हन, जनता के बेहतरी बर बेहतर ले बेहतर काम करबोन। बस्तर के 1300 गांव मन मं बिजली नइ रहिस, अब उहां करीब 868 गांवों मं बिजली आ गे हे। बांचे 432 गांव मन मं घलोक जल्दी बिजली पहुंचाए बर हमन काम करत हवन।
उमन कहिन कि सुकमा जिला के बुरकापाल के नक्सल घटना निश्चित रूप ले काफी पीड़ादायक हे। हमन अपन वीर जवान मन ल गंवा देन। हम सबके संवेदना ऊंखर परिवार के संग हे। जम्‍मो मन ल नक्सली मन के विकास विरोधी मानसिकता के विरोध करना चाही। डॉ. रमन सिंह हर कहिन कि नक्सलवाद के खिलाफ हमर नीति बिल्कुल स्पष्ट हे। हमन नीतिगत फैसला ले हन। पहिली तो ये कि आतंकवाद अऊ नक्सलवाद ले कोनो समझौता नइ करना हे। लोकतंत्र के रक्षा बर आखरी दम तक लड़ाई जारी रखबोन अऊ प्रभावित इलाका मन मं विकास बर सरलग काम करत रहिबोन। उमन कहिन कि जगदलपुर-सुकमा-दोरनापाल-जगरगुण्डा के 56 किलोमीटर सड़क के निर्माण मं केन्द्रीय अऊ राज्य सुरक्षा बल मन के सहयोग से करे जात हे। अंदाजन 56 किलोमीटर के सड़क बनत हे। ए सड़क के संगें-संग बस्तर अंचल मं बनत सड़क मन के निर्माण मं सुरक्षा देवइया हमार जवान मन ह अपन शहादत देहे हें। उमन देश बर अपन शहादत देहे हें। मैं उंखर शहादत ल नमन करत हौं। ये दुनिया के इतिहास के एक अइसन सड़क हे, जऊन ल जवान मन हर अपन खून ले सींचे हें। ओ सड़क के माटी ल मैं नमन करना चाहहूं। मैं हमार जवान मन के मनोबल बढ़ए बर ऊंखर बीच जाथंव। मुख्यमंत्री हर कहिस कि बस्तर अंचल मं पाछू एक साल मं हमन 200 किलोमीटर सड़क के निर्माण पूरा करे हन। अंदाजन दू हजार किलोमीटर सड़क उहां बनत हे। सीआरपीएफ, आईटीबीपी, कोबरा बटालियन संग पुलिस अऊ सुरक्षा बल मन के जवान सड़क मन के निर्माण मं श्रमिक मन ल सुरक्षा देहे के काम काफी मेहनत ले करत हे।
मुख्यमंत्री हर कहिन कि राज्य सरकार के विकास कार्य ले सुकमा जइसे इलाका मं घलोक जनता मं विश्वास जागृत होय हे। उमन लोक सुराज अभियान के तहत हालेच म सुकमा जिला के अपन यात्रा के उल्लेख करत कहिन कि सुकमा ले केरलापाल तक मैं सड़क मार्ग से गेंव। केरलापाल ओही स्थान ये, जिहां तत्कालीन कलेक्टर ल किडनेप करे गए रहिस। उहां सन्नाटा रहत रहिस, फेर जब लोक सुराज के बेरा समाधान शिविर मं मैं पहुंचेंव, त उहां दू-तीन हजार मनखे मौजूद रहिन अऊ आवेदन लेके खड़े रहिन। ओमां सरकार बर भरोसा जागे हे। लोक सुराज के समय दोरनापाल मं शबरी नदी म 500 मीटर के पुल के लोकार्पण मं मैं देखेंव कि पुल निर्माण के खुशी मं हजारों मनखे उहां नाचत-गावत रहिन। सीमावर्ती ओड़िशा के मनखे मन घलोक आए रहिन। मैं अंदाजन चार साल केन्द्रीय मंत्री रहेंव अऊ 14 साल ले मुख्यमंत्री हंव। एक पुल के लोकार्पण मं अतका खुशी मैं 18 साल के अपन मंत्रित्व के समय अब तक नइ देखे रहेंव। डॉ. रमन सिंह सदन मं अपन भाषण के समय साल 2013 के झीरम घाटी के नक्सल घटना ल सुरता करत करत भावुक हो गइन। उमन कहिन कि वो घटना मं हमन राज्य के कई वरिष्ठ नेता मन ल गंवा देन। बस्तर के शेर हमर संगी महेन्द्र कर्मा ल हमन गंवा देन। डॉ. सिंह हर सदन मं मौजूद दंतेवाड़ा के विधायक अऊ स्वर्गीय श्री महेन्द्र कर्मा के धर्मपत्नी श्रीमती देवती कर्मा के उल्लेख करत कहिन कि हम सब उंखर पीड़ा ल महसूस करत हन। ये घटना काफी दुखद रहिस। नक्सलवाद के कारन उहां हजारों कार्यकर्ता मन के शहादत हो गए हे। चाहे झीरम घाटी के घटना हो, चाहे 75 जवानों के शहादत अऊ अभी हाल के ही बुरकापाल के घटना, ए सब घटना मं होए शहादत रील के जइसे मोर आंखी के आघू झूलथे। कई पईत ए बारे मं सोचके मैं रात कन सुत तको नइ पावंव। मुख्यमंत्री हर कहिस कि बुरकापाल के घटना मं शहीद जवान मन के परिवार ल हम सब मिलके ये भरोसा देवावन कि हम सब ऊंखर संग हन।
डॉ. रमन सिंह हर कहिन कि जउन हमार संविधान मं विश्वास नइ करंय, जऊन हमार राष्ट्रध्वज के विरोध करथें, जऊन पंचायत के चुनाव से लेके पार्लियामेंट के चुनाव मन के विरोध करथें, अइसन मनखे जनता के हितैषी नइ हो सकय।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment