एनजीटी ह श्रीश्री रविशंकर ल लगाईस फटकार, कहिस आप मन ल जिम्मेदारी के अहसास नइ हे

श्रीश्री रविशंकर हर ‘वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल’ के बेरा म यमुना के डूबान क्षेत्र म होए नुकसान बर केंद्र सरकार अऊ एनजीटी ल दोषी बताए रहिन हे।

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) हर आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर ल ऊंखर ये बयान ल लेके जोरदरहा फटकार लगाए हे। खबर के मुताबिक एनजीटी ह एक याचिका के सुनवाई के समय ऊंखर बयान ल स्तब्ध करे वाला बताइस अऊ कहिस कि आपला अपन जिम्मेदारी के कोनो एहसास नइ हे। आप मन ल बोले के आजादी हे त का आप मन कुछू भी बोल दुहू। श्री श्री रविशंकर हर मार्च, 2016 मं ‘वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल’ के बेरा म यमुना के डूबान क्षेत्र ल होय नुकसान बर केंद्र सरकार अऊ एनजीटी ल दोषी बताए रहिस। उमन दलील दे रहिन कि उखर संस्था ह कार्यक्रम बर एनजीटी संग जम्मो संस्था मन से जरूरी अनुमति लेहे रहिस।

न्यायाधीश स्वतंत्र कुमार के अध्यक्षता वाले पीठ हर याचिकाकर्ता मेर श्रीश्री रविशंकर के बयान के कॉपी प्राधिकरण ल सौँपे बर कहे हे ताकि मुकदमा कागद मन मं एला संघरे जा सकय।  वोति, आर्ट ऑफ लिविंग (एओएल) हर एनजीटी के विशेषज्ञ समिति के रिपोट म आपत्ति दर्ज करत एकर विरोध करे हावे। संगे-संग ओ हर एनजीटी से एला खारिज करे के अपील घलोक करे हावे. एनजीटी ह मामला के अगला सुनवाई के तारीक नौ मई तय के हवय।

एखर से पहिली विशेषज्ञ समिति ह अपन रिपोट मं कहे रहिस कि एओएल के आयोजन हर यमुना के डूब क्षेत्र मं भारी नुकसान करे हे। समिति हर ए नुकसान के भरपाई म 13.29 करोड़ रुपया के खरचा आए अऊ येमां करीब 10 साल के समय लगे के बात कहे रहिस। एखर ले पहिली एनजीटी हर यमुना डूब क्षेत्र के पारिस्थितिकी अऊ जैव विविधता ल नुकसान पहुंचाए बर संस्था ऊपर पांच करोड़ रुपये के जुर्माना लगाए रहिस। पाछू साल जून मं एओएल हर एखर आखिरी किश्त देहे रहिस।
Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment