मुख्यमंत्री हर करिस उजाला योजना के समीक्षा : छत्तीसगढ़ मं एलईडी बल्ब ले होए लगिस बिजली के बचत






रायपुर, 26 अप्रैल 2017। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह हर आज इहां मंत्रालय (महानदी भवन) मं राष्ट्रीय उजाला योजना के तहत एल.ई.डी. बल्ब वितरण के समीक्षा करिन। बैठक मं बताय गीस कि एलईडी बल्ब वितरण के उत्साहजनक नतीजा मिले लगे हे। लोगन के घर मन मं बिजली के अच्छा बचत होए लगे हे। रोज सबले जादा मांग (पीक डिमांड) के बेरा म राज्य मं ए बल्ब मन के कारण बिजली के खपत मं अंदजन 190 मेगावाट के कमी आए हे। एखर ले सालाना 379 करोड़ रूपया के बचत होवत हावे। अधिकारी मन हर मुख्यमंत्री ल बताइन कि प्रदेश मं विद्युत उपभोक्ता मन ल अब तक 72 लाख 90 हजार एलईडी बल्ब देहे जा चुके हे।
आप मन जानतेच होहू कि नौ वाट के एक एलईडी बल्ब ले 100 वाट के बराबर अंजोर होथे। बिजली के मीटर घलोक कम रफ्तार ले घूमथे अऊ बिजली के बिल कम आथे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह हर 13 मार्च 2016 को राजनांदगांव मं ए योजना के शुभारंभ करे रहिन हें। डॉ. सिंह हर मंत्रालय मं आज के समीक्षा बैठक मं अधिकारी मन ले कहिन कि शेष उपभोक्ता मन ल घलोक लउहे एलईडी बल्ब बांटे जाए। उमन कहिन कि योजना के अन्तर्गत ए साल 02 अकटूबर तक बी.पी.एल. श्रेणी के विद्युत उपभोक्ता मन ल शत-प्रतिशत एल.ई.डी. बल्ब के निःशुल्क वितरण कर दे जाय। उमन अधिकारी मन ल नगरीय निकाय मन मं घलोक ए साल दिसंबर महिना तक एलईडी स्ट्रीट लाईट लगाए के निर्देश दीन। डॉ. सिंह हर कहिन कि शहरी क्षेत्र मन मं एल.ई.डी. बल्ब के वितरण बर मोहल्ला मन मं विशेष शिविर घलोक आयोजित करे जाए।
उमन कहिन कि ए योजना के लाभ ग्रामीण क्षेत्र मन के उपभोक्ता मन ल प्रभावी ढंग ले मिलत हावे। पाछू समें लोक सुराज अभियान के बेरा प्रवास के समय लगे चौपाल मं ग्रामीण मन हर एल.ई.डी. बल्ब के उपयोग के बारें मं बताइन कि एखर ले अंजोर घलोक अच्छा मिलत हे अऊ मीटर घलोक कम घूमत हे। एखर संगें-संग बिजली के बिल घलोक कम आवत हे। डॉ सिंह हर कहिन कि एल.ई.डी. बल्ब ले होए ऊर्जा के बचत के प्रचार-प्रसार करे जाए। नवा रायपुर मं ऊर्जा शिक्षा केन्द्र बनाय जाय। ये मां जुन्ना बल्ब अऊ एलईडी बल्ब के तुलनात्मक विवरण दे जाय अऊ ये घलोक बताए जाय कि दुनों बल्ब मन के उपयोग ले होवइया खरचा के तुलनात्मक ब्यौरा प्रदर्शित करे जाए ताकि आम जनता ल एल.ई.डी. बल्ब के फायदा के जानकारी मिल सकय। बैठक मं बताय गीस कि प्रदेश मं एलईडी बल्ब मन के उपयोग ले वातावरण मं कार्बन डाइ आक्साइड के मात्रा मं घलोक हर साल अंदाजन 07 लाख 67 हजार टन के कमी आवत हे। एखर खातिर अवइया 10 बछर मं 17 लाख ले जादा पेड़ बचाए जा सकही। समीक्षा बैठक मं अधिकारी मन कोति ले बताए गीस कि उजाला योजना के अन्तर्गत बीपीएल उपभोक्ता मन ल तीन एल.ई.डी. बल्ब निःशुल्क अऊ एपीएल श्रेणी के उपभोक्ता मन ल 65 रूपए प्रति बल्ब के दर ले सबसे जादा 10 एलईडी बल्ब दे जात हावे। उमन बताइन कि प्रदेश के छह शहरी क्षेत्र मन मं बिजली के खम्भा मन मं एलईडी लाईट लगाए जात हे। ए शहर मन मं बिलासपुर, राजनांदगांव, कोरबा, धमतरी नगर निगम क्षेत्र मन मं एल.ई.डी. स्ट्रीट लाईट के काम प्रगति म हावे। अब तक बिलासपुर नगर निगम क्षेत्र मं 11 हजार 308 एलईडी स्ट्रीट लाईट अउ 44 सेंन्ट्रल कन्ट्रोल अउ मानिंटरिंग सिसटम लगाए जा गए हे। एही प्रकार राजनांदगांव मं 6 हजार 269 एलईडी स्ट्रीट लाईट, कोरबा मं 3 हजार 303 अउर धमतरी मं 1 हजार 392 एलईडी स्ट्रीट लाईट लगाए गए हे। बांचे दू शहर मन मं सरलग रायपुर अऊ भिलाई मं घलोक एल.ई.डी स्ट्रीट लाईट के काम लउहे ही चालू होवइया हे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह हर ए जम्‍मो शहर मन मं दिसम्बर 2017 तक अनिवार्य रूप ले काम पूरा कराए के निर्देश अधिकारी मन ल दीन। बैठक मं बताय गीस कि ए सब्बो शहर मन मं एल.ई.डी. स्ट्रीट लाईट बर सेन्ट्रल कंट्रोल एण्ड मॉनिटरिंग सिसटम घलोक लगाये जात हे।
बैठक मं ऊर्जा विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री एन.बैजेन्द्र कुमार, आवास अउ पर्यावरण विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, खनिज विभाग के सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, जनसम्पर्क विभाग के सचिव श्री संतोष कुमार मिश्रा, नगरीय प्रशासन विभाग के विशेष सचिव डॉ. रोहित यादव, नवा रायपुर विकास प्राधिकरण विभाग के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री रजत कुमार संग आन अधिकारी उपस्थित रहिन।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment