कृषक परमानंद हर लीस शासकीय योजना मन के लाभ

उन्नत तकनीक अउ कड़ा मेहनत लाईस रंग
खेती अउ सब्जी उत्पादन ले होवत हे अच्छा आमदनी






जगदलपुर, 21 अप्रैल 2017। बस्तर जिला के अति संवेदनशील क्षेत्र विकासखण्ड दरभा अंतर्गत ग्राम छिन्दबहार निवासी कृषक श्री परमानंद हर अपन 4.5 हेक्टेयर जमीन म पाछू साल म वर्षा उपर आधारित परम्परागत तरीका ले धान के खेती करत रहिस। वर्षा म आधारित परम्परागत खेती करे ले धान के उत्पादन कम मिलत रहिस, जेखर ले अपन कुटुंब के पालन-पोषण जइसे-तइसे कर पात रहिस अउ ओला हमेया पइसा के तंगी रहय। कृषक परमानंद हर अपन परम्परागत खेती म बदलाव लात कृषि विभाग के सहयोग ले आर्थिक स्थिति म सुधार लाइस।
कृषक श्री परमानंद हर बताइस कि अपन आय ल बढ़ाए बर कृषि विभाग के मार्गदर्शन ले कतार विधि ले वो ह धान के खेती करना चालू करिस। कतार विधि ले खेती करे ले उत्पादन म वृद्धि होइस अउ आमदनी जादा होए लगिस। जादा आमदनी होए ले कृषक हर रबी मौसम म घलोक अंदाजन 1 एकड़ म दलहनी अउ सब्जी फसल ले लगिस। एखर ले आमदनी बाढ़ गए। उमन बताइन कि पाछू साल रबी मौसम म 1 एकड़ जमीन म प्याज अउ टमाटर के खेती करिस, जेमां कृषक ल प्याज ले 30 कुंटल अउ टमाटर ले 25 कुंटल सब्जी उत्पादन प्राप्त होइस। एखर अलावा कृषक तिर आधा एकड़ जमीन म तालाब घलोक हावय जेमां मछली पालन के काम करिस। उमन तालाब म 2000 रूपया के मछली बीज डालके 6000 रूपए के लाभ ले हावय। कृषक ल धान उत्पादन ले 19 हजार, सब्जी ले 43 हजार अउ मछली पालन ले 4 हजार रूपए के शुद्ध आय प्राप्त होवत हावय। उमन अपन ए आमदनी के श्रेय कृषि विभाग, उद्यान विभाग अउर मत्स्य विभाग के कर्मचारी मन ल दे हावय। कृषक श्री परमानंद हर गांव के आन कृषक मन ल घलोक कतार विधि ले धान के खेती करे बर प्रेरित करत हे, ताकि कृषि विभाग के विभागीय योजना मन के लाभ जम्‍मो कृषक उठात नवा तकनीक अपनाके लाभान्वित हो सकंय।


style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment