सेंदरी बिलासपुर स्थित मानसिक रोगी 200 बिस्तर अस्पताल के होही उन्नयन






रायपुर, 25 मई 2017। राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत सेंदरी बिलासपसुर स्थित राज्य मानसिक चिकित्सालय ल 200 बिस्तर अस्पताल के रूप मं उन्नयन करे के निर्णय ले गए हे। एखर खातिर राज्य शासन कोति ले दू करोड़ रूपया स्वीकृत करे गये हे। प्रदेश सरकार मानसिक रोगी मन के बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करे बर प्रयासरत हे। मनोरोगी मन ल सरलग चिकित्सा सुविधा मिलत रहे ये खातिर निजी मनोरोग विशेषज्ञ मन के सेवा घलोक लेहे जात हे। निजी मनोरोग चिकित्सक रायपुर, दुर्ग, बालोद, कवर्धा, बेमेतरा, राजनांदगांव, धमतरी, महासमुंद, रायपुर, सरगुजा अऊ गरियाबंद मं हफ्ता मं एक दिन अपन सेवा शासकीय अस्पताल मं देवत हें। अब तक करीबन 11 निजी डॉक्टर मन के सेवा प्रदान करे जात हे।
संचालक स्वास्थ्य सेवाएं श्री आर. प्रसन्ना हर आज इहां बताइस कि स्पर्श क्लिनिक के माध्यम ले मानसिक रोगी मन के पहिचान अउ जल्दी इलाज के संगे-संग मनोरोगी मन ल काउंसलिंग सुविधा तको देहे जात हे। राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम अभी हाल मं रायपुर, बिलासपुर, बस्तर, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, मुंगेली, दुर्ग, धमतरी, कोरबा अऊ महासमुंद जिला अस्पताल मं संचालित होवत हे। ए 10 शासकीय अस्पताल मन म मानसिक रोगी मन ल दवाइ निःशुल्क देहे जात हे । 9 अस्पताल मन म स्पर्श क्लिनिक सात अप्रेल, 2015 ले चालू करे गए हे । वित्तीय साल 2017-18 मं पांच जिला गरियाबंद, बलौदाबाजार, कांकेर, कवर्धा अऊ जशपुर मं चालू करे जाही। अधिकारी मन बताइन कि मानसिक रोगी मन बर टेबलेट क्लोरप्रोमाईजिन 100 एमजी, टेबलेट रिस्परीडॉन 2 एमजी, इंजे. प्रोमेथाईजिन 50, टेबलेट इंमीप्ररामाईन 75 एमजी, इंजे. फ्लूफेनाईजिन 25, टेबलेट ट्राईहेक्साफिनाईडिल 2 एमजी, टेबलेट लोराजिपाम 1 एमजी, टेबलेट फिनोबॉरबिटोन 30 एमजी व 60 एमजी अउ टेबलेट डाईफिनाईहाईड्राटोईन 100 एमजी निःशुल्क दे जात हे। मनोरोगी मन के बेहतर इलाज बर प्रदेश के जम्मो जिला के डाक्टर अऊ स्वास्थ्य कार्यकर्ता मन ल प्रशिक्षण देहे जात हे।




style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="4115359353"
data-ad-format="link">



style="display:block"
data-ad-format="autorelaxed"
data-ad-client="ca-pub-3208634751415787"
data-ad-slot="1301493753">

Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment