जबर लउठी रैली मं गूंजिस : छत्तीसगढ़िया पुलिस के सम्मान मं क्रांति सेना मैदान मं, परदेसियावाद आतंकवाद के नारा

बलौदाबाजार। छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना हर इतवार के दिन बलौदाबाजार मं जबर लउठी रैली के आयोजन करे रहिस जऊन तपत 45 डिग्री घाम मं मंझनिया 1 बजे शहर के अम्बेडकर चौक ले चालू होके बस स्टैंड होत वापस अम्बेडकर चौक मं खतम होईस।

अम्बेडकर चौक मं छत्तीसगढ़ महतारी के वंदना करे के बाद हजारो के संख्या मं छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना के सैनिक अउ समर्थक मन हाथ मे लाठी अऊ मूड़ म छत्तीसगढ़िया गमछा बांध के अनुशासनात्मक तरीका ले रैली मं रेंगिन। ए दौरान अड़बड़ झन पुलिस अउ शासन के छोटे बड़े अफसर मन के कड़ा सुरक्षा मं रैली निकलिस। रैली ह लहुटत खानी अंबेडकर चौक मं सभा के रूप ले लीस, जेमा सबले पहिली सेना के प्रदेश संयोजक श्री गिरधर साहू जी हर रैली मं सामिल जम्मो पदाधिकारी, सेनानी अउ समर्थक मन ल बधाई दीन अउ छत्तीसगढ़िया मन के शोषण के खिलाफ सरलग अवाज बुलंद करे के आह्वान करिस, सेना के मार्गदर्शक ठाकुर राम गुलाम सिंह जी हर जम्मो बाहरी मनखे जऊन छत्तीसगढ़िया मन के शोषण करत हें ते मन ल ललकारत कहिन कि, छत्तीसगढ़ मं परदेसिया आतंकवाद बर्दास्त नइ करे जाय। आय दिन छत्तीसगढ़िया मनखे के ऊपर अत्याचार होए के खबर मिलत हे, अब तो छत्तीसगढ़िया पुलिस अपनेच थाना मं सुरक्षित नइ हे, बाहरी मनखे थाना मं घुसर के छत्तीसगढ़िया पुलिसवाले मन के ऊपर हमला करत हें। उमन लोगन के मन म स्वाभिमान जगावत, छत्तीसगढ़ मं छत्तीसगढ़िया राज लाय के बात कहिन।

सभा ल पूर्व सांसद अऊ अपन पार्टी ले बगावत करइया बस्तर के शेर श्री सोहन पोटाई जी घलोक सभा ल संबोधित करिन। उमन कहिन कि न्यायिक जांच के पहिली छत्तीसगढ़िया आदिवासी समाज के टीआई के ऊपर 302 के धारा लगा के वोला निलंबित करना असंवैधानिक हे अऊ 302 के धारा लगाये के वकालत करइया एक बड़े नेता के निंदा करे अऊ अपन हक अधिकार बर लाठी उठाये के आह्वान करिन। आखरी उद्बोधन मं सेना के प्रदेशाध्यक्ष श्री अमित बघेल हर बलौदाबाजार अऊ भिलाई मं छत्तीसगढ़िया पुलिस के ऊपर होत अत्याचार अऊ 302 के धारा तुरंत हटाए ल कहिन, नही त अवइया दिनन मं तलवार रैली निकाल के विरोध प्रदर्शन करे के बात कहिन। उमन आघू कहिन कि हाँ छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना छत्तीसगढ़ मं गुंडाराज स्थापित करना चाहत हे, "गुंडाधुर के राज" स्थापित करना चाहत हे। उमन बीते समय म आदिवासी भाई बहिनी ऊपर होए अत्याचार ल गोहरैया जेल अधीक्षक सुश्री वर्षा डोंगरे ल निलंबित करई ल गलत बताइन। उमन कहिन कि जब एक छत्तीसगढ़िया अपन मन के बात करे हे त ओला निलंबित अऊ निष्कासित करे जात हावे अऊ वैसनेहे छत्तीसगढ़िया न्यायधीश प्रभाकर ग्वाल ल जनहित के नाम म निष्कासित कर दे जात हे, ये सरासर छत्तीसगढ़िया मनखे के संग होवइया परदेसिया आतंकवाद हे। अब छत्तीसगढ़िया मनखे जागरूक हो गये हावे शराब अऊ नोट मं बिकने वाला नइ हे। उमन आखरी म बलौदाबाजार जिला मं खुले सीमेंट कारखाना मं शत प्रतिशत छत्तीसगढ़िया मन ल रोजगार देहे ल कहिन, अइसन नई होए म वो कारखानों मं अवइया समे मं बड़का अउ उग्र आंदोलन करे के चेतावनी दीन।
(सेना के विज्ञप्ति के अनुसार)
Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment