असम म असर 'पहुना संवाद' के : असम के छत्तीसगढ़ी वंशी मन के जुराव

আসাম ম আসার পাখনা সংবাদ কে
আসাম কে ছত্তীসগঢ়বানশি মন কে জুরাভ

दुलियाजान, असम 07.05.2017। आज असम के दुलियाजान म उँहा रहैया छत्तीसगढ़ी वंशी भाई-बहिनी मन के एक सम्मेलन होइस। जेमा मार्च महीना म रैपुर म होये कार्यक्रम 'पहुना संवाद' के अगला कदम के बारे मे खासतौर ले बातचीत होइस। ए बइठक के अध्यक्षता रामेश्वर तेली जउन डिब्रूगढ़ ले लोकसभा के सांसद आंय अउ खुद छत्तीसगढ़ी वंशी ए, तउन मन करीन। सभा म छत्तीसगढ़ी वंशी विधायक तेरस ग्वाला घला सामिल रिहिन। ए सभा म असम के गुवाहाटी, गोलाघाट, तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, होजाई, सोनितपुर, जोरहाट, सिबसागर, कार्बी, आंगलोंग आदि ज़िला के 150 ले उप्पर छत्तीसगढ़ी वंशी मन भाग लिहिन। भाग लेवईया म 25 ले ज़ादा महिला घला रिहिन। ए जुराव म उँहा रहईया 15 के आसपास छत्तीसगढ़ी समुदाय के सदस्य शामिल होइन, तेमा सतनामी, तेली, मेहर, ग्वाला, उज़ीर, मरार, पनिका, गोंड़, गांडा, केवट आदि समाज के मनखे सामिल होइन।
ए बेरा म उँहा के सबले बड़े छत्तीसगढ़ी सांस्कृतिक संस्था छत्तीसगढ़ी कला क्रिष्टि परिषद के नवा कार्यकारिणी के गठन घला होइस जेमा रामेश्वर तेली, शंकर साहू, गुलाब दास पनिका सलाहकार बनाये गिन। तुलसी साहू हर नवा अध्यक्ष बनिस अउ जगेसर साहू, धीरपाल सतनामी मन उपाध्यक्ष अउ त्रिलोककपुर सिंह सचिव बनाये गिन।
आज के बइठक म छत्तीसगढ़ सरकार के संस्कृति विभाग खातिर विशेष आभार प्रकट करे गिस, जऊन हर 'पहुना संवाद' के आयोजन के संग असम म रहइया छत्तीसगढ़ी वंशी मन ल अपन पुरखा के भुइयां संग फ़ेर से जोरे के उदिम करिस। सभा म ए काम के विचारक, योजनाकार अउ समन्वयक अशोक तिवारी के विशेष चर्चा करके उ मन के प्रशंसा करे गिस अउ धन्यवाद दे गिस।
सभा ह नवा कार्यकारिणी ल किहिस के ओहर लउहे छत्तीसगढ़ संग खास जोगाजोग बर कार्यक्रम बनावै, अउ बड़का आम सभा के आयोजन घला करे जाय, जेमा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ल आमंत्रित करे जाय। सब झंन के मन म आज के बइठक बर बहुत उत्साह रिहिस। तभे तो आधा ले ज़ादा प्रतिभागी मन अतका दुरिहा ले आये रिहिन ज़िहा ले सभास्थल दुलियाजान ह रात भर के रेल मोटर के रद्दा ए। पहुना संवाद ह निश्चचित ही उहाँ रहईया छत्तीसगढ़ी मन के बीच एक नवा आशा के संचार करे हे, के अब ओमान ल अपन पुरखा भूमि, पुरखा अउ पुरखौती गांव के बारे म जाने के अवसर मिल सकत हे। अउ फेर एक नवा सांस्कृतिक सेतु बनहि जेखर से ओमन अपन पुरखा भुइयां संग हमेसा जुरे रहिहिं।
Share on Google Plus

About gurturgoth.com

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment