नवा आईटीआई अब केन्द्रीय विद्यालय मन के तर्ज म खुलही : राजीव प्रताप रूड़ी


  • अब देश भर म आईटीआई के घलोक होही ब्रांडिंग
  • केन्द्रीय मंत्री ह करिस युवा मन के कौशल विकास बर रमन सरकार के तारीफ
  • मनोरा, दुलदुला, बतौली अउ ओरछा म घलोक आई.टी.आई. खोले के प्रस्ताव मंजूर


रायपुर, 28 जून 2017। केन्द्रीय कौशल विकास मंत्री श्री राजीव प्रताप रूड़ी ह कहे हावय कि देश म अब नवा औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) केन्द्रीय विद्यालय मन के तर्ज म खोले जाही। श्री रूड़ी आज इहां मंत्रालय (महानदी भवन) म मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के संग प्रदेश सरकार के कौशल विकास विभाग के काम मन के समीक्षा करत रहिन।
श्री रूड़ी ह बैठक म बताइन कि केन्द्र सरकार ह देश भर म आईटीआई के ब्रांडिंग के निर्णय ले हावय। ताकि युवा मन म कौशल उन्नयन के दृष्टि ले आईटीआई के लोकप्रियता बढ़ सकय। पाछू करीबन 68 बछर म पहली पईत आईटीआई बर चिनहा (लोगो) बनाए गए हावय। श्री रूड़ी ह मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व म छत्तीसगढ़ सरकार कोति ले युवा मन के कौशल उन्नयन बर चलाये जात प्रकल्प मन के प्रशंसा करिन। उमन ए बात ल घलोक रेखांकित करिन कि छत्तीसगढ़ देश के पहली राज्य हे जऊन ह साल 2013 म कानून बनाके 14 साल ले 45 साल तक आयु समूह के युवा मन ल कौशल विकास के अधिकार दे हावय। एखर अन्तर्गत राज्य सरकार हर साल 2015-16 ले अब तक कौशल उन्नयन प्रशिक्षण कार्यक्रम मन बर 400 करोड़ रूपए के फंडिंग करे हावय। बैठक म प्रदेश के कौशल विकास मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड अउ कौशल विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्रीमती रेणुजी पिल्ले संग आन वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहिन। प्रमुख सचिव श्रीमती रेणुजी पिल्ले हर कौशल विकास गतिविधि मन के प्रस्तुतिकरण दीस।
श्री रूड़ी हर कहिस कि देश भर म करीबन 13 हजार आईटीआई हावय। एमां ले 3 हजार सरकारी हावय। हमर उदीम हावय कि अवईया समें म सब्बो आईटीआई गुणवत्ता के दृष्टि ले बेंच मार्क साबित होवय। अब आईटीआई के परीक्षा मन ऑनलाइन घलोक लेहे जात हे अउ रिजल्ट तुरंते देहे जात हावय। श्री रूड़ी ह ए बात म खुशी जतायी कि छत्तीसगढ़ के अंदाजन सब्बो विकासखण्ड मन म राज्य सरकार ह आईटीआई के स्थापना कर लेहे हावय। एमां 172 सरकारी अउ 101 प्राईवेट आईटीआई हावय। राज्य म सरकारी अउ निजी क्षेत्र म संचालित आईटीआई के अनुपात आन राज्य मन के तुलना म अच्छा हावय। केवल चार विकासखण्ड अइसन हावय जिहां आईटीआई खोलना बाकी हावय।
श्री रूड़ी हर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के आग्रह म आदिवासी बहुल जशपुर जिला के मनोरा, दुलदुला जिला सरगुजा के बतोली, अउ जिला नारायणपुर के ओरछा म आई.टी.आई जल्दी खोले के स्वीकृति तुरन्ते प्रदान कर दीस। बैठक म बताय गीस कि राज्य निर्माण के समय साल 2000 म छत्तीसगढ़ म 44 शासकीय आई.टी.आई रहीस, जबकि आज के स्थिति म ए संख्या 172 हो गए हावय। उन्‍हें साल 2000 म 29 निजी आई.टी.आई रहिस, जेकर संख्या अब 101 हो गए हावय। श्री रूड़ी हर कहिस- प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना अउ मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत घलोक छत्तीसगढ़ म युवा मन के कौशल उन्नयन बर सराहनीय काम होवत हावय। सब्बो 27 जिला मन म लाईवलीहुड कॉलेज मन के संग घलोक युवा मन ल जन जीवन ले जुड़े के छोटे फेर महत्वपूर्ण अउ उपयोगी व्यवसाय मन के प्रशिक्षण देहे जात हावय। उमन आईटीआई अउ कौशल उन्नयन केन्द्र अउ लाईवलीहुड कॉलेज मन म प्रशिक्षक मन के प्रशिक्षण के जरूरत म घलोक बल दीन अउ कहिन कि एखर लिए घलोक केन्द्र सरकार गम्भीरता से प्रयास करत हावय।
श्री रूड़ी हर ये घलोक बताइन कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी हर युवा मन के कौशल उन्नयन के महत्व ल देखत करीबन ढाई साल पहिली एखर खातिर अलग से कौशल विकास मंत्रालय के गठन करे गीस अउ ए मंत्रालय ल 30 हजार करोड़ रूपए के बजट देहे गए हे। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना बर हमार मंत्रालय म 12 हजार करोड़ रूपए के प्रावधान करे गए हावय। श्री रूड़ी ह बताइस कि येमा ले 25 प्रतिशत राशि राज्य सरकार मन ल शत-प्रतिशत अनुदान के रूप म देहे जात हे। राज्य सरकार एला अपन स्थानीय जरूरत मन के मुताबिक अपन हिसाब से खर्च कर सकत हावंय।
केन्द्रीय मंत्री के आघू प्रस्तुतिकरण म राज्य सरकार के कौशल विकास विभाग के तरफ ले बताए गीस कि प्रधानमंत्री अउ मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना मन के तहत जहां अलग-अलग सेक्टर मन म व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदाता के रूप म 2646 संस्था मन पंजीकृत हावय। एमां ले 1804 कार्यरत हावय। एमां साल 2016-17 म एक लाख ले जादा युवा मन ल प्रशिक्षण देहे गए हावय। ए मन ल मिलाके तीन लाख 57 हजार युवा मन ल प्रशिक्षण देहे जा चुके हे। विशेष वर्ग मन के हितग्राहि मन ल कौशल प्रशिक्षण देहे बर घलोक उदीम करे जात हावय। एखर अन्तर्गत 3416 जेल बंदी मन संग विशेष पिछड़ी जनजाति मन के 3099 युवा मन ल प्रशिक्षण दे गए हावय। विधवा अउ परित्यक्त 1781 महिला मन ल अउ 71 ट्रांस जेंडर मन ल घलोक कौशल प्रशिक्षण देहे जा चुके हे। कम्प्यूटर हार्डवेयर, राजमिस्त्री, नर्सिंग, वस्त्र निर्माण (गारमेंट मेकिंग) ब्यूटी पार्लर, कृषि, ऑटोमोटिव रिपेयरिंग प्लास्टिक इंजीनियरिंग आदि क्षेत्र मन म कौशल प्रशिक्षण जारी हावय। श्री रूड़ी हर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ल छत्तीसगढ़ के सरकार औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था मन म ट्रेड्स के संख्या बढ़ाए के घलोक आश्वासन दीन। 
Share on Google Plus

About Sanjeeva Tiwari

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment