भारतीयता हमर सबले बड़े पहिचान : पं. स्वराज्य प्रसाद त्रिवेदी जयंती म डॉ श्याम सुंदर दुबे के व्याख्यान

रायपुर, 02 जुलाई 2017। देश के सुप्रसिद्ध ललित निबंधकार डॉ. श्याम सुंदर दुबे ह आज पं. स्वराज्य प्रसाद त्रिवेदी जयंती समारोह के अवसर म कहिन कि संस्कृति हमर जमीन ले लेके आकाश तक आच्छादित हे। संस्कृति, साहित्य अऊ भारतीयता के गहरा अंतर्संबंध हे।
आज संस्कृति विभाग के तत्वावधान म छत्तीसगढ़ मित्र कोति ले आयोजित पं. स्वराज्य प्रसाद त्रिवेदी जयंती समारोह के आयोजन करे गीस। मुख्य अतिथि के संस्कृति विभाग के संचालक आशुतोष मिश्र ह शाल अउ श्री फल ले अभिनंदन करिन। ज्ञानपीठ नवलेखन पुरस्कार ले हालेच म सम्मानित श्रद्धा थवाईत के घलन संस्कृति विभाग ह अभिनंदन करिस। स्वागत भाषण डॉ. सुधीर शर्मा ह दीन अऊ अरविंद मिश्र ह पं. स्वराज्य प्रसाद त्रिवेदी के परिचय दीन। समारोह के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर के स्वागत राहुल सिंह ह अऊ विशिष्ट अतिथि डॉ. रमेंद्र मिश्र के स्वागत राम पटवा ह करिन।
मुख्य अतिथि डॉ. श्याम सुंदर दुबे ह अपन व्याख्यान म कहिन कि हमर इतिहास खंड-खंड के इतिहास नो हय। हमर समय ह परिचक्र के रचना करथे। जुन्‍ना इतिहास दृष्टि ह हमला खंडित करे हे। एखर उलटा हमार लोक ह हमला वैश्विक पहिचान देहे हे। हमार पुरान पूरा भारत के विवेचन करत रहिस, पुरान म सांस्कृतिक मूल्य मन के संरक्षण रहिस। वोमा समय के इकाई के सूक्ष्म विश्लेषण करे गए हे। भारतीयता मनुष्य के पारंपरिक संस्कार हे। साहित्य ह भारतीयता ल सरलग परगट करे हे। साहित्य स्मृति मन के पुनरागमन के झरोखा हे। 
विशिष्ट अतिथि डॉ. रमेंद्र मिश्र ह कहिन कि स्वराज्य प्रसाद त्रिवेदी ह अनुशासन ल पत्रकारिता के क्षेत्र म लागू करिन। उंखर पूरा मूल्यांकन जरूरी हे। आजादी के पत्रकारिता के ओ मन सिपाही रहिन। 
समारोह के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर ह कहिन कि प्रकृति के मानवीकरण भारतेच म ही हे। भारत के समकुल चेतना लोक म विद्यमान हे। ए समारोह म डॉ. सुधीर शर्मा, डॉ. आलोक शुक्ल, शंकर प्रसाद श्रीवास्तव, गिरीश पंकज, डॉ. जे. आर. सोनी, वीरेंद्र पांडेय, डॉ. स्नेहलता पाठक, डॉ. मंजुलता श्रीवास्तव, डॉ. दीपक पाचपोर, वरिष्ठ लेखक तेजिंदर, समीर दीवान, त्र्यंबक शर्मा, डॉ. जेबी नायडू, गोपाल सोलंकी, गिरजा शंकर गौतम, आसिफ इकबाल, अजय अवस्थी, डॉ. गणेश कौशिक, कुमेश जैन, अंबर शुक्ला, सीमा चंद्राकर, शिरीष त्रिवेदी आदि उपस्थित रहिन। संचालन अरविंद मिश्र अऊ आभार राम पटवा ह करिस।
Share on Google Plus

About Sanjeeva Tiwari

ठेठ छत्तीसगढ़िया. इंटरनेट में 2007 से सक्रिय. छत्तीसगढ़ी भाषा की पहली वेब मैग्‍जीन और न्‍यूज पोर्टल का संपादक. पेशे से फक्‍कड़ वकील ऎसे से ब्लॉगर.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment