राष्ट्रीय संगोष्ठी सम्पन्न

पं सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि बिलासपुर छत्तीसगढ़ अउ केंद्रीय हिंदी निदेशालय नई दिल्ली दुआरा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी डॉ विनय कुमार पाठक अध्यक्ष छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के मुख्य आतिथ्य, डॉ बंशगोपाल सिंह कुलपति के अध्यक्षता, विशेष अतिथी श्री रमेश नैयर वरिष्ठ पत्रकार, डॉ आनंद तिवारी सागर विवि, डॉ तीर्थेश्वर सिंह अउ डॉ राजकुमार सचदेव कुलसचिव के गरिमामय उपस्थिति म तीन दिवसीय राष्ट्रिय संगोष्ठी “हिंदी के बहुप्रयुक्त रूप: वैज्ञानिकता एवं सम्भावनाएं” सम्पन्न होइस। जेमा 170 शोध पत्र…

"राष्ट्रीय संगोष्ठी सम्पन्न"

केदार कश्यप ह नया रायपुर म निर्माणाधीन आदिम जाति प्रशिक्षण अउ अनुसंधान संस्थान के करिस अवलोकन

रायपुर, 26 अगस्त 2017। आदिम जाति अउ अनुसूचित जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप ह आज इहां नया रायपुर म पुरखौती मुक्तांगन के तीर बनत आदिम जाति संग्रहालय अऊ आदिम जाति प्रशिक्षण अउ अनुसंधान संस्थान के अवलोकन करिन। श्री कश्यप ह बताइन कि राज्य सरकार ह ए भवन मन के निर्माण बर 20 करोड़ ले ऊपर के राशि स्वीकृत करे हे, अउ एकर बर साढ़े बाइस एकड़ जमीन के व्‍यवस्‍था करे गए हे। श्री कश्यप…

"केदार कश्यप ह नया रायपुर म निर्माणाधीन आदिम जाति प्रशिक्षण अउ अनुसंधान संस्थान के करिस अवलोकन"

रामनगर-कोटा मार्ग चौड़ीकरण के काम जल्‍दी होवय- श्री मूणत

आवासीय इलाका म व्यवसायिक काम्पलेक्स बनइया मन के उपर कार्रवाई के निर्देश पर्यावरण नियम के उल्लंघन करे म प्लास्टिक फैक्ट्री सील रायपुर, 26 अगस्त 2017। लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत ह आज भिनसरहा राजधानी रायपुर के रामनगर इलाका के आकस्मिक निरीक्षण करिस। ए दौरान श्री मूणत ह निर्माण काम मन के पूरा निरीक्षण करिस। उमन रामनगर-कोटा मार्ग चौड़ीकरण, नाली निर्माण, सब्जी विक्रेता मन बर बने दुकान मन के जायजा लीन। श्री मूणत ह रामनगर-कोटा…

"रामनगर-कोटा मार्ग चौड़ीकरण के काम जल्‍दी होवय- श्री मूणत"

ये हे छत्तीसगढ़ के भागीरथी, पानी नइ रहिस त अकेल्‍ला कोड़ डरिस तरिया

भगवान शंकर के जटा ले गंगा ल धरती म लवइया भागीरथी ल तो आप मन जानत हावव, फेर छत्तीसगढ़ म घलोक एक अइसे मनखे हे, जऊन ह जल संरक्षण बर अपन दम म तरिया खोद डरिस। चिरमिरी के वार्ड नंबर—1 म रहइया श्यामलाल ह अपन इलाका म पानी के समस्या ल देखत बीते 27 बछर म वो कर देखाइस जउन ल कोनों सोंच नइ सकत रहिन। श्यामलाल ह अकेल्‍ला अपन दम म रोज मेहनत करके…

"ये हे छत्तीसगढ़ के भागीरथी, पानी नइ रहिस त अकेल्‍ला कोड़ डरिस तरिया"

मंदिर नो हे, मकबरा ये ताजमहल, ASI ह पहली पइत मानिस

आर्कियॉलजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) ह पहली पइत माने हे कि ताजमहल मंदिर नो हे, भलुक मकबरा ये। न्‍यायालय म सुनवाई के बेरा दाखिल हलफनामा म एएसआई ह ए बात के तस्दीक करे हे। एएसआई के साहेब मन के मुताबिक ताजमहल ल संरक्षित रखे ले जुरे 1920 के एक नोटिफिकेशन के आधार म अदालत म हलफनामा पेश करे गए हे। एखर ले पहिली केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ह नवंबर 2015 म लोकसभा म बताए रहिस कि…

"मंदिर नो हे, मकबरा ये ताजमहल, ASI ह पहली पइत मानिस"