किसान मन ल सम-सामयिक सलाह

रायपुर, 04 अगस्त 2017। कृषि वैज्ञानिक मन अउ कृषि विभाग के अधिकारी मन ह प्रदेश के उन क्षेत्र मन जहां कम बरसा के कारन धान के बोनी नइ हो पाय हे, उहां दलहन-तिलहन फसल मन के बोनी करे के सलाह किसान मन ल देहे हें। कृषि वैज्ञानिक मन ह आज इहां जारी विशेष कृषि बुलेटिन म कहे हे कि किसान उड़द, मूंग, तिल आदि के बोनी कर सकत हें। ए फसल मन के बीज मन ल उपचारित कर बोआई करना चाही। कृषि वैज्ञानिक मन ह अइसन क्षेत्र मन म मक्का अऊ ज्वार-बाजरा लगाय के सुझाव घलोक देहे हें। 

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

विशेष बुलेटिन म कहे गए हे कि कम वर्षा ले प्रभावित धान के फसल म कटुआ कीट के संभावना हे, ए खातिर किसान मन ल खेत मन के सतत निगरानी करना चाही। धान फसल वाले सूख्‍खा खेत मन म इल्ली के प्रकोप होए म डाईक्लोरोवास एक मिलीलीटर दवा एक लीटर पानी म घोलके छिड़काव करना चाही। जऊन खेत मन म पानी हे अऊ कटुआ इल्ली दिखता हे त उहां एक लीटर मिट्टी के तेल प्रति एकड़ के मान ले खेत के पानी म डालके पौधा के ऊपर रस्सी चलावंय। एखर से इल्‍ली मिट्टी तेल संग पानी म गिर जाही। 
बुलेटिन म बताइए गए हे कि कम वर्षा के कारण अभी तक बियासी नइ होए के स्थिति म भविष्य म बियासी करना उचित नइ हे। किसान मन ल अइसन खेत मन म खरपतवार नाशी के उपयोग करके निंदा नियंत्रण म ध्यान देना चाही। जहां कम वर्षा होए हे, उहां हल्का बरसा के बाद यूरिया 10 ले 15 किलो प्रति हेक्टर के मान ले छिड़काव करना चाही। धान अउ सोयाबीन म यूरिया के एक प्रतिशत घोल बनाके स्प्रे करे ले ए फसल मन ल फायदा होही। धान के बोआई नइ होए वाले जघा मन म लउहे पके वाले मूंग के पूसा विशाल अउ एचयूएम-1 अउ उड़द के किसिम टीयू 94-2, टीएयू-2, केयू 96-3 अउ इंदिरा उड़द के बोआई करना चाही।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});