गरीब लईका मन म शिक्षा के अलख जगावत हावे गुरूजी के बेटा हिन्देश

जांजगीर-चाम्पा, संवाददाता के ग्राउंड रिपोर्ट, मूल विज्ञप्ति। आज शिक्षा ह सबो तरह ल धन्धा बन चुके हे।गरीब लईका मन बर अच्छा शिक्षा मिल पाना अब्बड मुश्किल होगिस हावे।इसने मुश्किल दौर म भी गरीब लईका मन ल बढिया गुणवत्तायुक्त शिक्षा देहे खातिर हिन्देश जुटे हे।अपन के मेहनत अऊ लईका मन बर  कुछ करे के ओकर प्रयास ह अब रंग लाए ल शुरू कर दे हावे।ओकर शिक्षा महाभियान से प्रभावित बहुंत लईका जो पढई लिखई से कुछ नी मिले ऐसे गलत विचार रखे वाले लईका मन अब पढे ल शुरू कर दे हावे।आवा ओ युवक के  बारे म विस्तार ल जाने के कोशिश करथन।
जांजगीर-चाम्पा जिला के मालखरौदा विकासखण्ड म आने वाला गांव पोता के रहईया 24 बछर के हिन्देश कुमार यादव एम ए राजनीति पूर्व मे पढत हावे।अऊ ओकर ददा देवारी लाल यादव ह चिखली के शाप्राशा म गुरूजी हावे दई श्री मति कन्हाई यादव ह गृहणी हावे ओमन दू भई अऊ दू बहनी हावे ओमेके हिन्देश ल बडकी ओकर एक बहनी कुमारी पूनम यादव हावे अऊ एक छोटकी बहनी कुमारी प्रियंका यादव अऊ एक छोटे भई गजेन्द्र बहादुर सिह यादव हावे।हिन्देश ह पिछले तीन बछर ल मालखरौदा विकासखण्ड के अन्दर म आने वाला 108 गांव के रोज दौरा करके शिक्षा के प्रति लोगन मन म जागरूकता लाए के प्रयास करत हावे।ओहर लईका मन ला शिक्षा के महत्व बताके बढिया पढ लिख करके अच्छा आदमी बने बर प्रेरित करत हावे।अभी तक लगभग 75 हजार से ज्यादा लोगन मन ला शिक्षा ल लेके प्रेरित कर चूके हावे।ओहर शिक्षा ल लेके महाभियान छेडे हावे ए महाभियान के तहत् हजारो लईका मन ल शिक्षा के महत्व बता के प्रेरित कर पाठशाला से जोड चूके हावे।अऊ शिक्षा ल लेके सुबह ल लेके देर रात तक जागरूक करे के काम ल जारी रखे हावे।
ओहर लईका मन ल पुस्तक से जुडी जानकारी के साथ साथ ही अनुशासन संस्कार शिष्टाचार स्वच्छता नशामुक्ति पौधारोपण करे के महत्व भी बतावत हावे।एकर संग संग ही लईका मन ल अपराध से दूर राखे बर कानूनी जानकारी भी देवत हावे।अऊ दुर्घटना से भी दूरी बनवाओ खातिर सावधानी भी बरते ल बोलथे।वैसे तो हिन्देश ह आंगनबाडी प्राथमिक माध्यमिक हाई स्कूल अऊ हायर सेकण्डरी के लईका मन ला शिक्षा के महत्व बता चूके हावे।एकर संग संग लईका मन के दई ददा अऊ गांव के सियान मन ला शिक्षा के महत्व बता चूके हावे।शिक्षा के नीव आंगनबाडी अऊ प्राथमिक शाला ल माने जाथे जेकर खातिर हिन्देश ह आंगनबाडी अऊ प्राथमिक म बहुंत अत्यधिक ध्यान देवत हावे।
विधालय म जाकर के लईका मन ल पढावत अऊ अच्छा अच्छा ज्ञान के बात सीखावत हावे।गांव म भी लोगन मन ल शिक्षित होएके फायदा अऊ अशिक्षित होए के नुकसान के जानकारी देके शिक्षा ल जुडके शिक्षित बने बर प्रेरित करत हावे।निरक्षर मन ल भी शिक्षा से जुडकर अध्ययन कर शिक्षित बने बर प्रेरित करत हावे।अभी मालखरौदा के साथ साथ डभरा विकासखण्ड के गांव गांव घुम करके शिक्षा ल लेके लोगन म ल जागरूक करत हावे।ऊंहा स्वच्छता ल लेके भी लोगन मन से विशेष चर्चा कर खुले मे शौच मुक्त गांव बनाए बर भी शौचालय निर्माण करे बर प्रेरित करत आवे।हिन्देश ह लईका मन से पढई लिखई ल लेके चर्चा करथे अऊ लईका मन के समस्या पूछ करके ओ समस्या ल हल करे खातिर मार्गदर्शन अऊ सुझाव देथे।ओकर शिक्षा महाभियान से लोगन मन म शिक्षा ल लेके अब अब्बड जागरूकता देखे बर मिलत जात आवे।अऊ लोगन मन शिक्षा के महत्व ल जानके शिक्षा से जुडत जात हावे।हिन्देश नि:शुल्क शिक्षा महाभियान के शुरूआत तीन बछर पहली अपन गुरूजी ददा से प्रेरित होके करे रहिस हावे।अऊ ओहर अपन गुरू आईएएस रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी ल मानथे।महाभियान म हिन्देश ल अपन गुरू ओपी चौधरी के लगातार मार्गदर्शन मिलत हावे।ये महाभियान म सुनिल कुमार बर्मन नाम के लडका ल अपन सहयोगी मानथे।ए महाभियान ल लेके हिन्देश कहथे कि आज के जो कुछ भी भष्ट्राचार बेरोजगारी गरीबी जैसे ज्वलंत समस्या हावे।ओकर पिछे अशिक्षा ह मुख्य वजह हावे।
ये सबो ज्वलंत समस्या ल दूर करे बर सबो झन ल शिक्षा से जोडके शिक्षित बनाना अति जरूरी हावे।अऊ लईका मन सरकारी पाठशाला म गुणवत्तायुक्त नि:शुल्क शिक्षा मिल सके।एकर खातिर लगातार प्रयास करत हावन जोहर अब महाभियान के रूप म।धर दारे हावे।अभी महाभियान गांव अऊ विकासखण्ड स्तर म चलत हावे धीरे धीरे करके जिला राज्य अऊ राष्ट्र स्तर म शिक्षा महाभियान चलाके पूरा राष्ट्र के नागरिक मन ल शिक्षित बनाएके प्रयास कर अंगूठा छाप निरक्षरता के कलंक ल धोए खातिर प्रयास करबो।ये नि:शुल्क शिक्षा महाभियान ल निरंतर जारी रखके सभो ल शिक्षा से जोडे खातिर प्रयास जारी रखबो।
(मूल विज्ञप्ति के प्रकाशन)