अन्त्योदय के रद्दा म चलके सेवा करत हे सरकार: श्री दयाददास बघेल

रायपुर, 11 सितम्‍बर 2017। पर्यटन अऊ संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल ह कहिन हे कि केन्द्र अऊ राज्य सरकार के योजना मन, अउ कार्यक्रम मन अन्त्योदय के सिद्धांत के आधार म बनाए गए हे। इंखर क्रियान्वयन ले समाज के कमजोर, गरीब मनखे मन के सेवा करे के काम करे जात हे। श्री बघेल ह आज इहां सरोना रायपुर म स्थित ’ठाकुर विघ्नहरण सिंह राजपूत भवन’ म संस्कृति विभाग कोति ले लोक कलाकार मन बर आयोजित पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह प्रशिक्षण कार्यशाला के शुभारंभ करे गीस। ये 11 ले 13 सितम्‍बर तक आयोजित करे गए हे। कार्यक्रम ल सम्बोधित करत श्री बघेल ह कहिन कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय एकात्म मानववाद के प्रगतिशील विचारधारा के आधार म समाज के आखरी छोर म खड़े मनखे के उत्थान सबले बड़े सेवा मानत रहिन। श्री बघेल ह कहिन कि राज्य अऊ केन्द्र सरकार के योजना मन गरीब मन बर हे। राज्य म गरीब मन ल एक रूपिया किलो के दर ले चावल देवावत हे, एखर ले आज कोनो गरीब भूखे पेट नइ सुतय। गरीब बर निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधा, लइका मन के निःशुल्क शिक्षा, छात्रा मन ल निःशुल्क साइकिल देहे जात हे। अइसन कई योजना मन अन्त्योदय के आधार म संचालित करे जात हे। श्री बघेल ह कहिन कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ह जनधन योजना के माध्यम ले देश के हर गरीब मनखे के बैंक म खाता खुलवाए हे।




संस्कृति मंत्री ह प्रशिक्षण म हिस्सा लेवत कलाकार मन ले कहिन कि आप मन ल महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपे जात हे कि आप मन इहां ले पंडित दीनदयाल उपाध्याय के गरीब मन के उत्थान के सिद्धांत मन ल समझके हर एक जिला म 15 ले 25 सितम्‍बर तक होवइया पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के जिला, विकासखंड अऊ गांव स्तर म होवइया कार्यक्रम मन म अपन कला के माध्यम ले मनखे मन तक जानकारी पहुंचाए के महत्वपूर्ण काम करव। कार्यक्रम ल सम्बोधित करत पर्यटन मंडल के उपाध्यक्ष श्री केदारनाथ गुप्ता ह कहिन कि हमला पंडित दीनदयाल के जीवन ले प्रेरणा लेना चाही। उमन कठिन प्रतिकूल परिस्थिति मन म शिक्षा ग्रहण करिन। ऊंखर माता-पिता बचपन म गुजर गए रहिन। बचपन ले ही कुटुंब के जिम्मेदारी संभालत ओ मन अन्त्योदय ल सबले बड़े सेवा मानत रहिन। अइसनहे श्री संतोष पाण्डेय ह पंडित उपाध्याय के जीवनगाथा के प्रेरणादायी प्रसंग मन के उल्लेख करिन। प्रभारी संचालक संस्कृति श्री एम.टी. नंदी ह जन्म शताब्दी समारोह के अवसर म होवइया कार्यक्रम मन के बारे म विस्तार ले जानकारी दीन। कार्यक्रम ल प्रसिद्ध लोक कलाकार पद्मश्री सम्मान प्राप्त श्रीमती ममता चंद्राकर, श्री राजेश अवस्थी ह घलोक सम्बोधित करिन। श्री विनोद गोस्वमी ह रोचक कथा वाचन के माध्यम ले पंडित उपाध्याय के व्यक्तित्व अउ कृतित्व के बारे म बताइस। अइसनहे आन विशेषज्ञ वक्ता मन ह कलाकार मन ल महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करिन। ए अवसर म कई ठन जिला मन ले आए सांस्कृतिक दल मन के कलाकार मौजूद रहिन।