कुपोषण मुक्‍त छत्तीसगढ़ बनाए म सरकार के संग समाज के भागीदारी घलोक जरूरी: डॉ. रमन सिंह

रायपुर, 10 नवम्बर 2017। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ह कुपोषण मुक्‍त छत्तीसगढ़ बनाए बर सरकार के संगें-संग समाज के भागीदारी म विशेष रूप ले बल दे हे। उमन आज इहां मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन के शुरूआत करत कहिन कि सरकार अऊ समाज के मिले-जुले उदीम के फलस्वरूप राज्य के लइका मन म कुपोषण के स्तर म काफी कमी आए हे। राज्य निर्माण के समय छत्तीसगढ़ म कुपोषण के दर अंदाजन 70 प्रतिशत रहिस साल 2012 म वजन त्यौहार शुरू होए के पांच साल के भीतर कुपोषण के स्तर 40.05 प्रतिशत ले घटके साल 2016 के स्थिति म 30.13 प्रतिशत रहि गीस। कार्यक्रम के आयोजन महिला अउ बाल विकास विभाग कोति ले यूनीसेफ के सहयोग ले करे गीस।




मुख्यमंत्री ह शुभारंभ समारोह म सबो मनखे मन ले छत्तीसगढ़ ल अवइया तीन साल म कुपोषण मुक्ति के दिशा म केरल राज्य के बराबर लाय के आव्हान करिस। उमन कहिन – केरल म आज के स्थिति म कुपोषण के स्तर घट के 12 प्रतिशत रहि गए हे। छत्तीसगढ़ ल घलोक ए दिशा म केरल के बराबरी करे के जरूरत हे। स्थानीय नवीन विश्राम भवन के सभा कक्ष म आयोजित मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन के शुभारंभ समारोह म डॉ. रमन सिंह ह मिशन ले संबंधित गतिविधि अऊ योजना मन के पुस्तिका के विमोचन घलोक करिस। उमन ए अवसर म न्यूट्रीलिक ऑन लाइन पोषण सलाह केन्द्र अऊ न्यूट्रीचेक मोबाइल एप के घलोक शुभारंभ करिन। न्यूट्रीलिक ऑन लाइन पोषण सलाह केन्द्र के स्थापना विश्व बैंक के सहायता ले इस्निप परियोजना के तहत करे गए हे। समारोह के अध्यक्षता महिला अउ बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू ह करिन। संसदीय सचिव श्रीमती रूपकुमारी चौधरी विशेष अतिथि के रूप म उपस्थित रहिन। मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड, अपर मुख्य सचिव श्री अजय सिंह अऊ महिला अउ बाल विकास विभाग के सचिव डॉ. एम. गीता, यूनिसेफ के प्रतिनिधि संग आन वरिष्ठ अधिकारी घलोक कार्यक्रम म मौजूद रहिन।