मदरसा बोर्ड कोति ले आयोजित पाठ्यक्रम संशोधन कार्यशाला चालू

रायपुर, 21 नवम्बर 2017। छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड कोति ले आयोजित हाईस्कूल अउ हायर सेकेण्डरी पत्राचार परीक्षा के पाठ्यक्रम म संशोधन बर आयोजित दस दिन के कार्यशाला के आज शुभारंभ होइस। कार्यशाला के उद्घाटन सत्र ल संबोधित करत छ.ग. मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष श्री मिर्जा एजाज बेग ह कहिन कि अभी हाले म प्रचलित पाठ्यक्रम म न सिरिफ बदलाव के जरूरत हे भलुक कुछ नवा विषय के समावेश के घलोक जरूरत हे।




उमन कहिन कि छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड कोति ले साल 2005-06 ले हाईस्कूल अउ हायर सेकेण्डरी पत्राचार पाठ्यक्रम परीक्षा के आयोजन राज्य के कई ठन जिला मन के परीक्षा केन्द्र मन म करे जात हे। अंदाजन 11 साल पहिली हाईस्कूल अउ हायर सेकेण्डरी पत्राचार परीक्षा के पाठ्यक्रम अउ पाठ्यपुस्तक मन तइयार करे गए रहिस हे। अभी हाल म आन मण्डल मन के पाठ्यक्रम मन के दृष्टि ले छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड के पाठ्यक्रम अड़बड़ जुन्ना हो गए हे। उमन कहिन कि समाज के शाला त्यागी लइका मन, पढ़ाई छोड़े युवक-युवति मन, महिला मन, पुरूष मन ल शिक्षा के मुख्यधारा ले जोड़े बर छत्तीसगढ़ मदरसा बोर्ड विशेष पहल करत हे। नियमित रूप ले पढ़ाई छोड़े मनखे मन ल पत्राचार पाठ्यक्रम के माध्यम ले फेर शिक्षा प्राप्त करे बर प्रेरित करे जात हे। फेर एखर बर पाठ्यक्रम म सरलता जरूरी हे। हाईस्कूल के पाठ्यक्रम म अंगरेजी, गणित, विज्ञान जइसे विषय मन बर वैकल्पिक विषय मन के चयन करके कुछ नवा विसय घलोक जोड़े जाय त ये वाले छात्र-छात्रा मन बर फायदेमंद होही।




श्री बेग ह कहिन कि हायर सेकेण्डरी पत्राचार परीक्षा म केवल कला संकाय के परीक्षा लेहे जात हे। कला संकाय के संगें-संग वाणिज्य अउ विज्ञान संकाय के परीक्षा चालू करे जाना जरूरी हे। लंबा समय ले छात्र-छात्रा मन कोति ले वाणिज्य अउ विज्ञान संकाय के परीक्षा चालू करे बर मांग करे जात हे। उमन कार्यशाला म उपस्थित विसय खांटी जानकार मनले कहिन कि पाठ्यक्रम के निर्धारण करत समय ये बात ध्यान रखव कि पाठ्यक्रम सरल होवय अऊ स्तरीय घलोक होवय। स्वाध्यायी छात्र-छात्रा मन ल दृष्टिगत रखत कहूं पाठ्यक्रम तैयार होही त ओ मन ल कठिनाई नइ होही। बोर्ड के सचिव डॉ. इम्तियाज अहमद अंसारी ह बताइस कि कार्यशाला 30 नवम्बर तक चालू रहिही।