सन चौंसठ के बाद परे अइसन अकाल, हमला चिंता मवेसी मन ल का खवावंन : सूखा प्रभावित क्षेत्र मन म पहुँचिन केंद्रीय दल

राजनांदगांव 23 नवम्बर 2017। 1964 के बाद अइसन सूखा पहली पइत परे हे। फसल पूरा चउपट हो गए हे। हमला ये वाले चिंता हे कि मवेसी मन ल का खवावंन। सूखा प्रभावित क्षेत्र मन के सर्वे करे बर केंद्र सरकार ले आये टीम जिहां पहुँचिन, उहाँ किसान मन ह सूखा ल लेके अपन तकलीफ बयान करिन। किसान मन ह बताइन कि गाँव म पेयजल स्तर घलोक तेजी ले घटत हे अऊ शंका हे कि फरवरी महिना के बाद ले पानी के समस्या विकराल रूप ले लेही। किसान मन ह बताइन कि वर्षा कम होए अऊ अनियमित होए के सेती उम्मीद जितका फसल घलोक नइ होइस अऊ खेत सूखा रहि गे। टीम ह छुरिया, डोंगरगांव, राजनांदगांव, डोंगरगढ़ अउ खैरागढ़ ब्लाक के गाँव मन के दौरा कनि। उमन खेत मन म फसल के स्थिति देखिन​। अधिकारी मन ह बताइन कि नजरी आकलन ले घलोक काफी कम फसल आए हे। बजरंगपुर म एक किसान के खेत म फसल कटाई परयोग के बारे म अधिकारी मन ह बताइन कि इहां मात्र 1.7 क्विंटल प्रति हेक्टेयर फसल आए हे। केंद्रीय दल म नीति आयोग के उप सलाहकार श्री मानस चौधरी अउ श्री जीआर जरगरए सीनियर कंसल्टेंट, पेयजल संसाधन मंत्रालय अउ एफसीआई के डीजीएम श्री सुभाष कुमार सामिल रहिन।
ए दौरान संचालक आयुक्त भू-अभिलेख श्री रमेश शर्मा, अपर कलेक्टर श्री जे.के. धु्रव अउ संयुक्त कलेक्टर सुश्री रेणुका श्रीवास्तव घलोक उपस्थित रहिन। सिंचाई विभाग के अधिकारी मन ह बताइन कि जेमां संभव हे उहाँ जलाशय मन के पानी के उपयोग निस्तारी तालाब मन के भरे बर घलोक करे जाही।