Success Stories

छत्तीसगढ़ ल गौरवान्वित करिस श्री आशाराम ह : कांकेर जिला के किसान ल नवाचारी कृषक राष्ट्रीय पुरस्कार

रायपुर, 22 मार्च 2018। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान कोति ले छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित आदिवासी बहुल कांकेर जिला के किसान श्री आशाराम नेताम ल परंपरागत खेती के बजाय समेकित कृषि प्रणाली अपनाके आय म पांच गुना बढ़ोतरी बर नवाचारी कृषक पुरस्कार ले सम्मानित करे गीस। भारत सरकार के कृषि राज्य मंत्री श्री पुरषोत्तम रूपाला ह पाछू दिनन नई दिल्ली म आयोजित सम्मान समारोह म श्री आशाराम नेताम ल भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नवाचारी कृषक पुरस्कार ले सम्मानित करिस। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के मार्गदर्शन म नवाचारी कृषि पद्धति अपनाके श्री नेताम ह छत्तीसगढ़ अऊ इहां के कृषक समुदाय ल गौरवान्वित करे हें।




श्री आशाराम नेताम कांकेर जिला के ग्राम बेवरती के युवा किसान ये जेमन स्नातक उपाधि हासिल करे के बाद अपन पैतृक 6 एकड़ जमीन म अपन पिता के संग हाथ बंटाना शुरू करिन। ओ मन परंपरागत खेती के रूप म धान के फसल लेहे के संगेच छोट-मोट डेयरी घलोक चलात रहिन। एखर से ओ मन ल हर साल करीबन डेढ़ लाख रूपिया के आय होत रहिस। साल 2013-14 म कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के संपर्क म आए के बाद श्री नेताम ह समन्वित कृषि प्रणाली ल अपनाइन अब ओ मन खरीफ म धान अऊ रबी म अलसी अऊ चना के फसल लेथें। संगेच कृषि विज्ञान केन्द्र कांकेर के मार्गदर्शन म वैज्ञानिक तरीका ले पशुपालन करथें, उमन गाय मन के संख्या म पांच ले छः गुना बढ़ोतरी कर लेहे हें। आज ऊंखर तिर 35 उन्नत नस्ल के पशु हे। एमां अधिकतर जर्सी, गीर अउ साहिवाल नस्ल के पशु हे जेकर दूध उत्पादन क्षमता अड़बड़ जादा हे। सिरिफ डेयरी ले ही ओ मन ल साल भर म 10 लाख रूपिया के सकल आय होथे।
श्री नेताम ह एक एकड़ जमीन म दू तालाब के तको निर्माण करे हे जेमां ओ ह साल भर मछली बीज अउ मछली के उत्पादन करथे। ओ ला मछली पालन ले करीबन सवा लाख रूपिया सालाना आय होवत हे। ओ ह गांव के बहुत अकन मनखे मन ल अपन खेत म रोजगार देहे हे। श्री नेताम आज क्षेत्र के आन किसान मन बर रोल मॉडल बन गे हे। उमन अपन मेहनत अऊ लगन ले कामयाबी के नवा इबारत लिखे हें अऊ आन किसान मन के मन म आशा के नवा किरण जगाए हें। कृषि के क्षेत्र म श्री नेताम के उपलब्धि मन ल देखत ओ मन ल छत्तीसगढ़ शासन कोति ले कृषक समृद्धि सम्मान अउ इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय से कृषक फैलोशिप सम्मान ले नवाजे गए हे।


मुहाचाही:  घना जंगल के बीच बसे सोनपुर म अरिवन्द के दुकान म मिलथे जरूरत के हर समान