डॉ. रमन सिंह

वन धन, जन धन अऊ गोबर धन तीनों योजना गरीब मन के आर्थिक विकास म होही मददगार: श्री नरेन्द्र मोदी

प्रधानमंत्री ह महिला समूह ल दीस अमली बीज निकाले के मशीन

रायपुर, 14 अप्रैल 2018। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ह आज छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग के ग्राम जांगला (जिला-बीजापुर) म सबले कम समर्थन मूल्य म वनोपज खरीदी अऊ प्रसंस्करण बर केन्द्र सरकार के वन, धन योजना के घोषणा करत कहिन -देशभर म वन धन विकास केन्द्र खोले जाही ताकि हमार वनवासी भाई-बहिनी मन ल वनोपज के सही दाम मिल सकय। संगेच प्रसंस्करण के संग ओखर मूल्य संवर्धन (वेल्यू एडिएशन) करे जा सकय। उमन वन धन योजना के संगें-संग प्रधानमंत्री जन धन योजना अऊ गोबर धन योजना के घलोक जिक्र करिन। श्री मोदी ह कहिन -ये तीनों योजना गांव वाले मन अऊ विशेष रूप ले वन क्षेत्र मन के निवासी मन अऊ गरीब मन के आर्थिक विकास म मददगार होही।
श्री मोदी ह कहिन -प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत छत्तीसगढ़ के बैंक मन म एक करोड़ 30 लाख खाता खुल गे हे। बैंक मन म खाता होए म ओखर का फायदा मिलही हे, ये आप मन सब जानत हव। श्री मोदी ह वन धन योजना के महत्व उपर प्रकाश डालिन अऊ उदाहरण देवत कहिन कि कच्चा अमली ल जब आप मन बेचथव त 17 रूपिया या 18 रूपिया प्रति किलो के कीमत मिलथे, फेर उही इमली के बीज निकाल के बीज रहित अमली ल बाजार म बेचे जाय तो ओखर कीमत 50 रूपिया ले 60 रूपिया प्रति किलो तक मिलथे। उमन कहिन -वन धन योजना म छोटे वनोपज मन के संग्रहण अऊ प्रसंस्करण के काम मन म मनखे मन ल बड़ संख्या म रोजगार घलोक मिलही। श्री मोदी ह आज के कार्यक्रम म एक महिला स्वसहायता समूह ल इमली प्रसंस्करण बर मशीन भेंट कर शुभकामना दीन। ए मशीन ले इमली के बीज ल आसानी ले निकाला जा सकही।
जनसभा म श्री मोदी ह ये घलोक कहिन -आदिवासियों के हित मन के रक्षा बर वनाधिकार कानून ल अऊ घलोक जादा सख्ती ले लागू करे जाही। बांस के खेती करइया गांव वाले मन ल ओखर अच्छा मूल्य प्राप्त हो सकय, एखर बर अब ओ मन बिना कोनो रोक-टोक के बांस के कारोबार कर सकही। बीजापुर जिला म पाछू दू बछर म ग्यारा महिला स्वसहायता समूह मन कोति ले रेशम कृमि पालन के संग 34 लाख रूपिया के आमदनी हासिल करे हें। ए समूह मन के महिला मन शहद उत्पादन के क्षेत्र म घलोक काम करत हें। प्रधानमंत्री के जांगला प्रवास के समय आज उहां प्रदर्शनी म लगाए गए वन विभाग के स्टॉल म श्री मोदी ह ए महिला समूह मन ले घलोक मुलाकात करिन।
आप मन जानतेच होहू के केन्द्र सरकार ह गांव वाले मन के जीवन ल बेहतर बनाए बर गोबर-धन योजना शुरू करे के निर्णय लेहे हे। ए योजना के तहत गोबर अऊ खेत मन के ठोस कचरा ल कम्पोस्ट खाद, बायोगैस अउ बायो-सीएनजी म बदले जाही।

मुहाचाही:  अमृत मिशन म 210 करोड़ के जल आवर्धन योजना जल्दी पूरा होही: डॉ. रमन सिंह