किसान

जैव विविधता संरक्षण म छत्तीसगढ़ के किसान मन के अहम योगदान: डॉ. प्रभु

रायपुर 15 मार्च 2018। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र रायपुर अउ पौध किसिम संरक्षण अउ कृषक अधिकार प्राधिकरण नई दिल्ली कोति ले इहां कृषि महाविद्यालय रायपुर के सभागार म पौध किसिम संरक्षण अउ कृषक अधिकार अधिनियम के तहत जागरूकता सह कृषक प्रशिक्षण आयोजित करे गीस। पौध किसिम संरक्षण अउ कृषक अधिकार प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ. के.व्ही. प्रभु ह कहिन के देश म जैव विविधता संरक्षण म छत्तीसगढ़ के किसान मन के अहम योगदान हे। छत्तीसगढ़ के किसान मन ह पीढ़ी-दर-पीढ़ी बहुत अकन अमूल्य अउ दुर्लभ पौध प्रजाति मन ल बचाकर रखे हें जऊन आज देश बर अनमोल धरोहर साबित होवत हे। उमन छत्तीसगढ़ म कई ठन पौध प्रजाति मन के संरक्षण बर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय कोति ले करे जात प्रयास मन के सराहना करिन।




डॉ. प्रभु ह कहिन कि प्राधिकरण कोति ले छत्तीसगढ़ के किसान मन कोति ले संरक्षित पौध किस्म मन के पंजीयन करके ओ मन ल इंकर उपयोग के अधिकार देहे के कार्यवाही करे जात हे। ए अवसर म कई ठन कृषि विज्ञान केन्द्र अउ निजी किसान मन कोति ले राज्य के जैव विविधता उपर केन्द्रित प्रदर्शनी लगाए गीस अऊ जैव विविधता संरक्षण बर किसान मन ल सम्मानित घलोक करे गीस। ए अवसर म संचालक विस्तार सेवाएं डॉ. ए.एल. राठौर, कृषि महाविद्यालय रायपुर के अधिष्ठाता डॉ. ओ.पी. कश्यप संग कई ठन विभाग मन के विभागाध्यक्ष, कृषि विज्ञान केन्द्र मन के समन्वयक अउ बड़ संख्या म किसान उपस्थित रहिन।



मुहाचाही:  कृषि छात्र मन ह जानिन अमरीका म उच्‍च शिक्षा अऊ रोजगार के संभावना