अभिषेक सिंह डॉ. रमन सिंह राजनांदगांव

लौह शिल्प अऊ काष्ठ शिल्प ल बढ़ावा देहे बनही व्यापक रणनीति: डॉ. रमन सिंह

  • लौहकर्म बर लायसेंस प्रक्रिया होही सरल
  • मुख्यमंत्री सामिल होइन लोहार (विश्वकर्मा) समाज के महासम्मेलन म

रायपुर, 30 अप्रैल 2018। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ह लोहार मन ल औजार बनाए बर जारी होवइया लायसेंस के प्रक्रिया ल सरल बनाए के घोषणा करे हें। उमन ये घलोक कहिन हे कि लोहार मन ल औजार निर्माण बर लकड़ी आदि असानी ले मिल सकय, ए खातिर घलोक नीति निरधारित करे जाही।
मुख्यमंत्री ह कहिन कि लौह शिल्प अऊ काष्ठ शिल्प ल बढ़ावा देहे अऊ एमां काम करइया परम्परागत शिल्पकार मन ल बेहतर बाजार देवाए अउ ऊंखर सामाजिक-आर्थिक विकास बर एक व्यापक रणनीति अऊ कार्ययोजना घलोक बनाए जाही। डॉ. रमन सिंह आज मंझनिया जिला मुख्यालय राजनांदगांव म छत्तीसगढ़ लोहार (विश्वकर्मा) समाज के महासम्मेलन ल मुख्य अतिथि के आसंदी ले सम्बोधित करत रहिन। सम्मेलन म समाज के प्रतिनिधि मन ह मुख्यमंत्री ल बताइन कि औजार निर्माण म लोहा गलाए के प्रक्रिया बर ओ मन ल लकड़ी के जरूरत होथे, जऊन आज काल अड़बड़ महंगी मिलत हे। ए म मुख्यमंत्री ह ओ मन ल विश्वास देवाइस के उंखर ए समस्या के उचित निराकरण जल्दी करे जाही अऊ ओ मन एखर बर समाज के प्रतिनिधि मन ल आमंत्रित करके उंखर से विचार विमर्श करहीं। उंखर कोति ले मिले सुझाव मन के आधार म राज्य म लौहशिल्प अऊ काष्ठ शिल्प के विकास बर एक बेहतर कार्य योजना अऊ रणनीति बनाए जाही। मुख्यमंत्री ह कहिन -लौहकर्म आदिमकर्म हे अऊ आज ये बहुत बड़का रूप म पहुँच गए हे। भारत के पहिचान ओखर स्टील उद्योग ले हे अऊ एखर पाछू विश्वकर्मा समाज के बड़का योगदान हे। उमन कहिन कि लोहार मन के हुनर ल निखारे बर शासन कोति ले कौशल विकास म विशेष जोर देहे जात हे। डॉ. सिंह ह कहिन कि पौराणिक ग्रंथ मन के मानन त विश्वकर्मा दुनिया के पहिली इंजीनियर हे उमन एखर सृष्टि ल अपन कलात्मक निर्माण ले सुंदर बनाए हे। ओ मन समाज के घलोक इष्ट हें अऊ हम सबके घलोक आराध्य हे।




महासम्मेलन ल लोकसभा सांसद श्री अभिषेक सिंह ह घलोक सम्बोधित करिन। उमन कहिन कि ए प्रकार के सामाजिक सम्मेलन मन ले कई फायदा होथे। शासन ल घलोक समाज के मनखे मन ले मूल्यवान सुझाव मिलथे, जेकर आधार म बेहतर नीति बनाए म आसानी होथे। उमन कहिन कि कौशल उन्नयन के माध्यम ले आर्थिक आय बढ़ाए के प्रयास शासन कोति ले करे जात हे। एखर अच्छा परिणाम मिलत हे। कौशल उन्नयन बर मनखे आवेदन करत हें अऊ बेहतर जीवन के तरफ आगू बढ़त हें।
महासम्मेलन म महापौर श्री मधुसूदन यादव, राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री नीलू शर्मा, राज्य ऊर्दू अकादमी के अध्यक्ष श्री अकरम कुरैशी, राज्य समाज कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी, नागरिक आपूर्ति निगम के पहिली अध्यक्ष श्री लीलाराम भोजवानी, राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष श्री रमेश पटेल, राजगामी संपदा न्यास के पहिली अध्यक्ष श्री संतोष अग्रवाल, राज्य अंत्यावसायी निगम के सदस्य श्री पवन मेश्राम, सभापति श्री शिव वर्मा, पूर्व महापौर श्री नरेश डाकलिया, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्री दिनेश गांधी, विश्वकर्मा समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्री लोचन विश्वकर्मा, अउ आन गणमान्य नागरिक उपस्थित रहिन। ए मौके म कलेक्टर श्री भीम सिंह अउ जिला पंचायत सीईओ श्री चंदन कुमार संग आन वरिष्ठ अधिकारी घलोक उपस्थित रहिन।
मुख्यमंत्री ल महासम्मेलन म विश्वकर्मा समाज के एक सदस्य श्री शेखर विश्वकर्मा ह अपन हाथ ले बने उंखर एक तस्वीर भेंट करिन। मुख्यमंत्री ए तस्वीर ले अड़बड़ खुश होइन। उमन श्री शेखर के चित्रकला ल बढ़ावा दे बर स्वेच्छानुदान ले ओ मन ल 21 हजार रुपिया देहे के घोषणा करिन। समाज के एक आन सदस्य श्री हरीश विश्वकर्मा ह लकड़ी म उकेरे गए मुख्यमंत्री के फोटू ओ मन ल भेंट करिन। उमन ए मा श्री हरीश ल उंखर काष्ठकला के विकास बर 21 हजार रुपए के स्वेच्छानुदान देहे के घोषणा करिन।


मुहाचाही:  मुख्यमंत्री ह करिस कवर्धा के केन्द्रीय विद्यालय के शुभारंभ : लइका मन ल दीन आशीर्वाद