Desh

पीयूष गोयल ह भारतीय रेल म मानवरहित क्रॉसिंग खतम करे बर एक मिशन मोड प्लान करिस समीक्षा

नई दिल्‍ली, 27 अप्रैल 2018। केंद्रीय रेल अऊ कोयला मंत्री श्री पीयूष गोयल ह काल नई दिल्ली म रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अऊ सदस्य मन, रेल सुरक्षा के मुख्य आयुक्त, 5 रेल जोन मन के जीएम अउ आन वरिष्ठ अधिकारी मन के संग विस्तृत बैठक के अध्यक्षता करिन। बैठक के बेरा उमन भारतीय रेल ले मानव रहित क्रॉसिंग (यूएमएलसी) ल पूरा खतम करे के योजना के समीक्षा करिन। बैठक कुशीनगर दुर्घटना के पीड़ित मन के याद म 2 मिनट के मौन के संग शुरू होइस।



रेल मंत्री के रूप म प्रभार लेहे के बाद श्री पीयूष गोयल कोति ले 7 सितंबर 2017 के दिन आयोजित पहलिच बैठक सुरक्षा मुद्दा मन उपर रहिस। ओमा ओमन निर्देश दे रहिन कि सबो यूएमएलसी अवइया एक साल म खतम हो जाना चाही। ए संबंध म उल्लेखनीय प्रगति हासिल करे गए हे जेमां ए, बी अऊ सी मार्ग मन म अब सिरिफ 58 यूएमएलसी बांचे रह गे हे, जऊन म भारतीय रेल यातायात के 80 प्रतिशत ले जादा हिस्सा निर्भर हे।
भारतीय रेल ह यूएमएलसी म दुर्घटना म कमी लाय के दिशा म कई कदम उठाए हे, जेखर सेती पाछू 4 बछर म (2013-14 म 47 दुर्घटना होए रहिस, जऊन 2017-18 म कम होके 10 म आ गीस) यूएमएलसी दुर्घटना मन म 79 प्रतिशत के कमी आए हे। पाछू चार बछर के समय यूएमएलसी के उन्मूलन के औसत दर म घलोक करीबन दू तिहाई के वृद्धि होए हे। अब ब्रॉड गेज नेटवर्क म सिरिफ 3,479 यूएमएलसी बचे हे।
बांचे यूएमएलसी ल खतम करे बर एक बहुआयामी रणनीति योजना बनाए जात हे, जेमां यूएमएलसी म कर्मचारी मन के बहाली, रेलवे अंडर ब्रिज (आरयूबीएस), रेलवे ओवरब्रिज, डाइवर्जन आदि के निर्माण सामिल होही। ये काम ट्रैक खंड मन म काम के संगें-संग निष्पादित करे जाही। यूएमएलसी के एक उल्लेखनीय संख्या के संग पांच महत्वपूर्ण जोन (एनआर, डब्ल्यूआर, एनईआर, एनडब्लूआर, ईसीआर) के जीएम के संग एक विस्तृत समीक्षा करे गीस।
उत्तरदायित्व अऊ सार्वजनिक निगरानी बढ़ाय बर एक वेबसाइट के माध्यम ले यूएमएलसी के उन्मूलन के प्रगति ल पारदर्शी रूप ले ऑनलाइन साझा करे जाही। 11 जोन मन म यूएमएलसी ल खतम करे के लक्ष्य सितंबर, 2018 होही। बांचे 5 जोन मन के लक्ष्य जल्दीच निरधारित करे जाही। श्री पीयूष गोयल ह भारतीय रेल बर सुरक्षा पहिली के उद्देश्य ल दोहराइन अऊ जोर देके कहिन कि बचाए गए हर जीवन अमूल्य हे।



मुहाचाही:  केन्‍द्रीय पर्यटन मंत्री ह विरासत ल अपनाए बर बनाईस स्‍मारक संगवारी