छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग रायपुर

छत्तीसगढ़ राज्य बाल संरक्षण आयोग अउ यूनिसेफ कोति ले दू दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन

रायपुर, 26 जून 2018। छत्तीसगढ़ राज्य बाल संरक्षण आयोग अउ यूनिसेफ के सयुंक्त तत्वावधान म आज इहां आयोग के शक्ति, काम अउ क्षमता निर्माण उपर आज इहां दू दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन करे गीस। आयोग के अध्यक्ष श्रीमती प्रभा दुबे ह ए प्रशिक्षण कार्यक्रम के शुभारम्भ करे गीस। लइका मन के सबले बढ़िया हित ल सुनिश्चित करे बर कार्यशाला के पहिली सत्र म राजस्थान राज्य बाल संरक्षण आयोग के पहिली सदस्य श्री गोविन्द बेनीवाल ह बाल अधिकार अऊ ऊंखर संरक्षण ले जुड़े प्रावधान मन के उद्भव अऊ ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, वैश्विक स्तर म लइका मन के अधिकार अऊ संरक्षण बर करे गए संधि अऊ भारत म लइका मन के अधिकार मन ले सम्बंधित क़ानूनी उपबंध मन म चर्चा करे गीस। प्रशिक्षण कार्यक्रम म श्री बेनीवाल ह बाल अधिकार संरक्षण अधिनियम 2005 के उपबंध, अधिनियम के भूमिका, राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के शक्ति अऊ उत्तरदायित्व मन उपर घलोक अपन बात रखिन। प्रशिक्षण के दूसर सत्र म दिल्ली ले आये विसय विशेषज्ञ श्री राज मंगल प्रसाद ह किशोर न्याय अधिनियम (देखभाल अऊ संरक्षण) 2015 अऊ नियम 2016 के क्रियान्वयन अउ आयोग म लइका मन ले जुड़े कई ठन प्रकरण मन के निराकरण के सम्बन्ध म चर्चा करिन। कांकेर जिला के जिला महिला बाला विकास अधिकारी सुश्री रीना लारिया ह किशोर न्याय अधिनियम के क्रियान्वयन म आवइया कई ठन बाधा अऊ कई ठन केस स्टडीज के बारे म प्रतिभागी मन ल बताइस।




कार्यशाला म यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के प्रमुख श्री प्रशांता दास अऊ बाल संरक्षण अधिकारी सुश्री गार्गी साहा ह घलोक बाल संरक्षण म अपन बात रखिन। कार्यशाला म आयोग के सबो सदस्य अऊ अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहिन।

मुहाचाही:  जीवन भर शासकीय सेवा करे के बाद रिटायर होवइया कर्मचारी पेंशन के संग मान-सम्मान के हकदार : डॉ. रमन सिंह