लक्ष्मी नारायण लहरे

भारत बंद के समरथन म सारंगढ़ म होही महाबंद

सतनामी समाज के नेता मन करिन सहयोग के आह्वान

छत्‍तीसगढ़ी संवाददाता लक्ष्मी नारायण लहरे, कोसीर/रायगढ़, 02 अप्रैल 2018। भारत बंद के समरथन म सारंगढ़ महाबंद होही, सारंगढ अउ अंचल के इस्थानीय सतनामी समाज के जहूँन नेता हे ओमन 1 अप्रैल के मंझनिहा बेरा म सारंगढ़ नगर म घूम घूम के लोगन मन ल महा बंद म सहयोग करेके बात रखिंन हे अउ आह्वान करिन हे। 20 मार्च के हमर देस के सरोच नियाले ह एससी/एसटी कानून म सीथिलता करे बर कानून म बदलाव करना चाहत हे, वोखर विरोध म भारत बंद के आह्वान दलित वर्ग ह 02 अप्रैल के करत हे।





आजादी के बाद म दलित वर्ग के हित बर अउ अधिकार रक्षा के खातिर 1955 म पहली फैईत छुआ छूत अपराध अधिनियम बनीस फेर ओखर बाद नियम कानून म अउ सुधार होइस अउ 1979 म नागरिक संरक्षन अधिनियम बनीस अउ संविधान म घलो ब्यवस्था बनीस के समाज के पिछड़े अउ दलित वर्ग के सोसन अउ अत्याचार के विरोध म लगाम लगे अउ धीरे धीरे 1989 म अनुसूचित जाति/अनुसूचित जन जाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम बनीस जेनहर बहुत तगड़ा बनीस। अब हमर देस के सरोच नियालय ह 20 मार्च के एससी/एसटी एक्ट के सनदरभ म जो फैसला देहे हे ओ ह कानून ल सिथिल करत हे। कानून म फेर बदल करे के सरोच नियालय ल टेम टेमा नईहे। संसद म जोन कानून बने रहिथे बहुत सोंच समझ के बने रहिथे अउ कानून म फेर बदल होवत हे त येखर से एक वर्ग ल हानि पहुँचत हे। ओखर विरोध म भारत बंद के साथ साथ सारंगढ़ महा बंद रही अउ विरोध जताहिं।