Success Stories Success story नारायणपुर

घना जंगल के बीच बसे सोनपुर म अरिवन्द के दुकान म मिलथे जरूरत के हर समान

नारायणपुर, 04 जुलाई 2018। सफलता के अपन-अपन अलग कहानी होथे। कहिथें के कहूं आप मन ल सफल होना हे त ये जरूरी नइ हे के आप मन बहुत जादा पढ़े लिखे होवव तभे सफल इंसान बन सकत हो, सफलता के कोनो शॉर्टकट नइ होवय, वो तो मेहनत करे ले मिलथे। जऊन मनखे मेहनत नइ करय वो कभू आगू नइ बढ़ सकय।
अइसनहे घना जंगल के बीच-बसे गांव सोनपुर के युवा अरविन्द ह आई.टी.आई के पढ़ई ल बीच म छोड़के जरूरी घरेलू सामान के दुकान खोलिस। ओखर दुकान म नमक मिर्चा दाल-चीनी, तेल ले लेके नमकीन, बिस्कुट संग आन समान मिलथे। छत्तीसगढ़ म माओवादी मन के गढ़ कहे जवइया नारायणपुर जिला के कई इलाका अइसे हे जिहां आम आदमी आए-जाए ले झंकथे। सोनुपर गांव घलोक उही इलाका मन म ले एक हे, इहां गांव चारों कोति पहाड़ अऊ घना जंगल ले घिरे हे। जिला के कई इलाका अभो पहुंच बिहीन हे।




अरविन्द कहिथे के कुछ साल पहिली चौमासा (बरसात) म घर म खाए-पीए के सामान खतम हो गए रहिस, अऊ दूर-दूर तक कोनो बाजार घलोक नइ हे, ऊपर ले बरसा के मौसम म जरूरत के समान सिरिफ हप्‍ताही हॉट-बाजार म मिलत रहिस। तब मैं आई.टीआई के पढ़ाई करत रहेंव। तब आर्थिक समस्या अऊ मनखे मन के मजबूरी ल देखत दुकान खोले के विचार मोर मन म आइस। पढ़े लिखे होए के सेती वो ह शासकीय योजना मन के सहयोग लीस। जल्दीच ओला अनुसूचित जनजाति शहीद वीर नारायणसिंह योजना के तहत दुकान बनाए बर दू लाख रूपिया के करजा कम ब्याज दर म मिल गे। वो ह घरेच म दुकान बनवाइस। धीरे-धीरे दुकान चले लगिस। सोनपुर के संगेच तीर-तखार के इलाका के मनखे जेन अब तक हप्‍ताही हाट-बाजार के अगोरा करत रहिन वोमन अब अपन जरूरत के समान कोनो समय येकर दुकान ले ले लेथें। आज अरविन्द दूरस्थ जंगल इलाका म बइठके घलोक 8-10 हजार रूपिया महिना कमावत हे। एखरे संग वो ह मनखे मन ल शासन के योजना मन के लाभ लेहे बर घलोक जागरूक करत हवय। अरविन्द ह बताइस कि 2055 रूपिया हर महीना करजा पटाथे।
अरविन्द के ये सफलता के सोर इलाका म दूरिहा-दूरिहा तक पहुंच गए हे। पाछू महिना कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा अरविन्द के हौसला बढ़ाए बर माओवादी गढ़ सोनपुर पहुंचिन। ऊंखर संग एसडीएम श्री दिनेश नाग अऊ सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री के.एस. मसराम घलोक मौजूद रहिन। कलेक्टर ह अरविन्द के दुकान अवलोकन करत ओखर से आत्मीय बातचीत करिन अऊ शासन ले जऊन मदद चाही ओला पूरा करे के आश्वासन दीन।



मुहाचाही:  छत्तीसगढ़ ल मिलीस ’’वाटर डाईजेस्ट अवार्ड’’